Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

New Delhi: ऑटो क्षेत्र में चल रही मंदी थमने का नाम नहीं ले रही है। रूकना तो दूर की बात है अब तो ये हर दिन के साथ ये संकट गहराता जा रहा है। अगस्त महीने में भी ऑटो सेक्टर में मंदी जारी रही जिसके बाद इस भयानक मंदी को कुल 10 महीने का समय हो चुका है। सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स के आंकड़ों के अनुसार इस अगस्त महीने में यात्री वाहनों में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई।

सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (SIAM) द्वारा सोमवार को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार पिछले साल के मुकाबले अगस्त महीने में यात्री वाहन की बिक्री 31.57 प्रतिशत की गिरावट आई। इस गिरावट के साथ ही यात्री वाहनों की ​बिक्री घटकर 1,96,524 पर आ गई। वहीं यात्री कारों की बिक्री में 41.09 प्रतिशत की गिरावट आई है और ये घटकर 1,15,957 पर आ गई हैं।

SIAM ने 1997-98 से डाटा रिकॉर्ड करना शुरू किया था तब से ये अब तक की सबसे खराब गिरावट है। इस बारे में ऑटो कंपनियों ने पिछले हफ्ते एक इस सेक्टर को फिर से जीवित करने की मांग की थी। ऑटो सेक्टर में चल रही इस मंदी ने लाखों लोगों की नौकरियां छीन ली हैं।

सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने उन्हें आश्वासन दिया कि सरकार इस क्षेत्र में मदद करने के लिए काम कर रही है और कहा कि उन्होंने वित्त मंत्रालय से पेट्रोल और डीजल,हाइब्रिड वाहनों पर करों में कटौती पर विचार करने के लिए कहा था। इस मंदी के चलते भारत की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी ने 3000 कांट्रेक्ट कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया। वहीं कंपनी को अपने खर्चों में कमी लाने के लिए कुछ दिनों के लिए अपने प्रोडक्शन को भी रोकना पड़ा।

Also Read: भारत को मिली स्विस खाताधारकों की लिस्ट, इनमें ज्यादातर खाते कार्रवाई के डर से बंद हुए थे

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.