Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

देशभर में महिलाओं की सुरक्षा के लिए सरकार तमाम प्रयास कर रही है। बावजूद इसके महिलाएं और बच्चियां सुरक्षित नहीं है। कभी घर के भीतर तो कभी घर के बाहर उनकी आबरु को तार-तार किया जाता है। मुंबई से रिश्तों को शर्मशार करने वाला एक मामला सामने आया है, यहां एक पिता अपनी ही दो नाबलिग बेटियों को दो साल से हवस का शिकार बना रहा है। पुलिस ने आरोपी फैशन डिजाइनर को नाबालिक बेटियों के साथ यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया है। पोक्सो कोर्ट ने आरोपी फैश डिजाइनर को 13 अप्रैल तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया है।

जो बेटियां अपने पिता द्वारा पिछले दो साल से लगातार शोषण का शिकार हो रही थी उन में एक की उम्र 17 तो दूसरी 13 साल की है। वहीं जब बेटी ने पिता की करतूतों का विरोध किया तो उसे पढ़ाई के लिए पैसे न देने और घर के बाहर निकालने की धमकी दी गई जिसके बाद ग्यारहवीं में पढ़ने वाली 17 वर्षीय पीड़िता ने रविवार को अपनी मां को पूरी आपबीती बताई। जब मां ने इस पर आरोपी से पूछताछ की तो उसने उलटा अपनी पत्नी और बेटी के साथ ही मारपीट शुरू कर दी। इसके बाद दोनों ने पुलिस थाने जाकर एफआईआर दर्ज कराई।

नाबालिग ने अपने बयान में कहा कि उसे तारीख तो याद नहीं लेकिन पिछले दो साल से उसके पिता उसका उत्पीड़न कर रहे हैं। उसने आगे बताया कि वह अपने घर पर माता-पिता के साथ रहती है। उसकी दो और बहनें हैं। एक 13 साल की और दूसरी 10 साल की। इसके अलावा तीन साल का छोटा भाई भी है। पीड़िता ने बताया कि उसके दादा-दादी भी साथ रहते हैं।

नाबालिक ने आरोप लगाया कि उसके बाद उसके पिता लगातार उसका कई महीनों तक उत्पीड़न करते रहे। इसके बाद पिछले साल नवंबर-दिसंबर में जब वह और उसकी छोटी बहन टीवी देख रही थीं तभी उनके पिता ने छोटी बहन के साथ भी गलत हरकत शुरू किया। पीड़िता ने बताया कि छोटी बहन ने जब चिल्लाना शुरू किया तो उसने अपने पिता को रोकने की कोशिश की। इसके बाद पिता उसको भी प्रताड़ित करने लगे।

पीड़िता ने बताया कि यहां तक कि उसके पिता ने उसको और मां को होटेल में धंधा करवाने और गैर मर्दों के साथ शारीरिक संबंध बनाकर पैसा कमाने के लिए धमकी दी थी।

पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अलग-अलग धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे सोमवार सुबह 6 बजे उसके घर से गिरफ्तार कर लिया गया।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.