Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

उत्तरप्रदेश में लगातार हो रही लूट और हत्या की वारदात ने कानून व्यवस्था की पोल खोल दी है राजधानी के इंदिरा नगर में हुए डबल मर्डर के बाद सोमवार को गोमतीनगर इलाके में रियल स्टेट कारोबारी के घर 20 लाख की डकैती की घटना हुई। इसके बाद मोहनलालगंज में युवती से बलात्कार और  गोसाईगंज में युवक की हत्या के मामले में पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंची थी कि मंगलवार को फिर पारा इलाके के राम विहार कॉलोनी में सेवानिवृत फौजी की दो बेटियों सोनम और आरती की बेरहमी से गला काटकर हत्या कर दी गई।

कल घटी इस घटना के 24 घंटे के अन्दर ही पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस ने बताया कि बड़ी बेटी के पड़ोसी प्रेमी युवक ने ही दोनों बहनों की हत्या की थी। पुलिस को भ्रमित करने के लिए लूट का रूप दिया था। पुलिस ने यह भी कहा कि दूसरे लड़के के साथ लड़की की नजदीकी के चलते हत्या की घटना को अंजाम दिया गया।

जानकारी के मुताबिक, पारा थानाक्षेत्र के  रामविहार कॉलोनी राजाजीपुरम में सेवानिवृत फौजी एलबी सिंह अपनी पत्नी रेनू सिंह, बड़ी बेटी आरती (24), सोनम (16) और बेटा आशुतोष सिंह के साथ रहते हैं। बड़ी बेटी बीटेक की पढ़ाई कर चुकी है वहीं, बेटा (एल एंड टी) कंपनी में मेट्रो निर्माण कार्य में लगा हुआ है। पिता ने बताया कि बेटा ड्यूटी पर गया था वह पत्नी को लेकर कमांड हॉस्पिटल सिटी स्कैन करवाने के लिए सुबह 8:00 बजे गए हुए थे, घर पर दोनों बेटियां अकेले थीं। जब वह करीब 9:30 बजे मशीन खराब होने के चलते घर वापस आये तो दोनों बेटियां खून से लथपथ पड़ी हुई थीं।आसपास के लोगों ने बताया कि उनके घर से चीखने की आवाजें आ रहीं थीं। बड़ी बेटी बरामदे में पड़ी हुई थी, वहीं छोटी बेटी किचेन में लहूलुहान पड़ी हुई थी।

बेटियों का गला कटा देख दंपत्ति के पैरों तले जमीन खिसक गई। उन्होंने पुलिस को सूचना दी और दोनों को कमांड अस्पताल ले गए जहां डाक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। दोनों के गले पर धारदार हथियार के निशान थे

गौरतलब है कि राजधानी में डबल मर्डर की सूचना मिलते ही पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। सूचना पाकर मौके पर आईजी, डीआईजी, एसएसपी, एएसपी, सीओ सहित कई पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। बीजेपी विधायक सुरेश श्रीवास्तव भी मौके पर पहुंचे थे। इस मामले में पुलिस ने डॉग स्क्वॉड, फिंगर प्रिंट दस्ते के साथ छानबीन की थी। एसएसपी ने बदमाशों की तलाश में क्राइम ब्रांच एवं पुलिस की तीन टीमें लगाई गई थी। एसएसपी ने दावा किया था कि जल्द ही हत्यारे पकड़ लिए जायेंगे। हत्यारे तो पकड़ लिए गए लेकिन इस घटना ने अपने पीछे कई सवाल छोड़ दिए हैं। साथ ही राजधानी में तेज़ी से बढती आपराधिक घटनाओं ने कानून व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है। अपराध के ग्राफ को बढ़ता देख पुलिस प्रशासन के रवैये पर सवाल उठने लगे हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.