Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

उन्नाव रेप पीड़िता के साथ 28 जुलाई की दोपहर हुए ‘सड़क हादसे’ पर लगातार कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। इस हादसे में रेप पीड़िता की हालत गंभीर बनी हुई है वहीं इस हादसे में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई थी। इस पूरे मामले में भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की मुश्किल बढ़ती जा रही हैं।

कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ हत्या, हत्या की साजिश का केस दर्ज कराया गया है। विधायक के खिलाफ FIR पीड़िता के चाचा ने कराई है। वह फिलहाल रायबरेली की जिला जेल में बंद हैं। एफआईआर में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, उनके भाई मनोज सेंगर भी नामजद हैं। इसमें 10 नामजद और 15-20 अन्य अज्ञात के खिलाफ के केस दर्ज है। भारतीय दंड संहिता की 302, 307, 506 120B की धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है।

एडीजी ने बताया कि इस घटना के पीछे साजिश का आरोप लगा है, इसलिए ट्रक मालिक, क्लीनर और ड्राइवर की सारी कॉल्स डीटेल खंगाली जा रही है। पुलिस बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनसे जुड़े हर एक व्यक्ति की कॉल डीटेल निकाल रही है जिससे यह पता लगाया जा सके कि ट्रक ड्राइवर, मालिक या क्लीनर का उनसे कोई संबंध तो नहीं है?

पीड़िता के परिजन भी इसको हादसा नहीं मानते। उनका आरोप है कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के इशारे पर ही इस घटना को अंजाम दिया गया है। वहीं, विपक्ष मामले में साजिश की आशंका जताते हुए सीबीआई जांच की मांग को लेकर गोलबंद हो चुका है। विपक्ष का कहना है यह हादसा सामान्य नहीं है, बल्कि आरोपी पक्ष ने पीड़िता और उसके परिवार को खत्म करने के लिए यह करवाया है।

समाजवादी पार्टी (एसपी) के सांसद रामगोपाल यादव ने राज्यसभा में मामले को उठाते हुए कहा कि इलाहाबाद कोर्ट में आज से इस केस की सुनवाई शुरू होनी थी। उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्य है कि जो सिक्यॉरिटी मिली हुई थी, वह छुट्टी पर चली गई थी। जिस ट्रक ने टक्कर मारा, उसके आगे-पीछे के नंबर प्लेट्स पर ग्रीव्स लगे थे।’

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.