Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का प्रसारित होने वाला टेलीविजिन शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ सीजन-9 के साथ लौट आया है। शुक्रवार की रात केबीसी के महामंच पर गरीब बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने वाली संस्थान सुपर-30 के प्रबंधक आनंद कुमार मौजूद थे। केबीसी में हर शुक्रवार को एक नया सेगमेंट खेला जाता है जिसका नाम ‘नई चाह, नई राह’ है। इस नए सेगमेंट में हिस्सा लेने पहुंचे गरीब बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा देकर आइआइटी भेजने वाली कोंचिग संस्था “सुपर-30” के प्रबंधक आनंद कुमार। जिनका स्वागत बेहद ही जोर शोर से किया गया। अमिताभ ने दर्शकों को आनंद कुमार का परिचय देते हुए कहा, ये हैं सुपर -30 के सुपरमैन आनंद कुमार जी’। बदले में मुस्कुराते हुए आनंद कुमार ने हाथ जोड़कर स्वागत किया।

बता दें केबीसी के हर हफ्ते ‘नई चाह, नई राह’ नाम से एक स्पेशल सेगमेंट खेला जाता है। इसमें एक विशेष मेहमान को आमंत्रित किया जाता है। इस हफ्ते स्पेशल सेगमेंट में आनंद कुमार मौजूद थे। आनंद कुमार का जीवन बेहद ही संघर्षों भरा रहा। उनके जीवनमय संघर्ष को केबीसी द्वारा शो के दौरान एक विडियो के माध्यम से दिखाया गया।

आखिरकार आनंद कुमार ने जीत लिया दिल

केबीसी में पहुंचे आनंद कुमार की कहानी देख अमिताभ बच्चन तो भावुक हुए ही साथ ही दर्शकों के चेहरे पर एक मायूसी सी छा गई। आनंद कुमार ने अमिताभ का दिल ही नहीं जीता बल्कि खेलते हुए उन्होंने 25 लाख की धनराशि भी जीती। इस खेल में उनकी मदद दो शिष्य अनिरूद्ध सिन्हा और अनुप कुमार ने की।

खेल के दौरान आनंद कुमार ने अपनी आपबीती बताई कि वे कैसे इस मुकाम तक पहुंचे हैं। पिता की अचानक मृत्यु हो जाने के बाद परिवार का गुजर बसर करना बहुत ही मुश्किल हो गया। तब उनकी मां ने पापड़ बनाना शुरू किया। आजीविका के लिए आनंद कुमार और उनके भाई ने गली-गली जाकर पापड़ बेचे। गरीबी के कारण आनंद कुमार ज्यादा पढ़ाई नहीं कर सके। लेकिन उनके पिता का सपना था कि वे खुब पढ़ें। उन्होंने गरीब बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने की ठान ली और आज सुपर-30 के प्रबंधक के रुप में मौजूद हैं। आनंद कुमार के संस्थान सुपर-30 से 396 बच्चे आइआइटी पहुंच चुके हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.