Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

राजस्थान की पन्द्रहवीं विधानसभा के लिए आज मतदान छिटपुट घटनाओं को छोड़कर शांतिपूर्ण संपन्न हो गया। 72.58  प्रतिशत से अधिक मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। इसके साथ ही राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट तथा अन्य दलों के प्रत्याशियों एवं निर्दलीयों सहित 2274 उम्मीदवारों का चुनावी भाग्य इवीएम में बंद हो  गया। मतदान सुबह आठ बजे शुरु हुआ जो छिटपुट घटनाओं को छोड़कर सायं पांच बजे शांतिपूर्ण सम्पन्न हो गया जहां 72.58 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले।

इस दौरान सर्वाधिक जयपुर जिले के चौमू विधानसभा क्षेत्र में 86. 47 प्रतिशत  तथा सवाईमाधोपुर जिले के बामनवास में सबसे कम 62.65 प्रतिशत मतदान हुआ। इसी तरह पोकरण में 85, 52, सादुलशहर 81.91 , सूरतगढ 82.29, रायसिंहनगर 82.73, पीलीबंगा 83. 43, प्रतापगढ 80. 12, बेंगू में 83. 39 बागीदौरा में 80.02 घाटोल में 81.35,बायतु में 79. 50 तथा अन्य कई विधानसभा क्षेत्रों में 70 से 78 प्रतिशत के बीच मतदान हुआ।

इस दौरान श्रीमती राजे के झालरापाटन विधानसभा क्षेत्र में 74. 39 एवं गहलोत के जोधपुर में सरदारपुरा विधानसभा क्षेत्र में 65. 83 तथा पायलट के टोंक  विधानसभा क्षेत्र में 73.11 प्रतिशत मतदान हुआ। गृह मंत्री गुलाब चंद  कटारिया के उदयपुर विधानसभा क्षेत्र में 65. 70 प्रतिशत मतदान हुआ।

राज्य में सुबह मतदान के समय कुछ ईवीएम मशीनों में तकनीकी खराबी तथा चुरु के रतनगढ़ में मतदान केन्द्र के बाहर पथराव होने से तीन लोगों के घायल होने, सीकर जिले में फतेहपुर में झगड़ा होने के बाद मोटरसाइकिल को आग लगाने तथा बीकानेर के कोलायत क्षेत्र में बज्जू क्षेत्र में एक जीप को आग लगा देने की घटना सामने आई हैं। इसके अलावा भरतपुर के नदबई क्षेत्र में एक मतदान केन्द्र पर कब्जा जमाने का प्रयास करने पर दो लोगों को गिरफ्तार किया गया हैं। इसी तरह अलवर के बानसूर में कांग्रेस प्रत्याशी शंकुतला रावत पर हमला  करने की घटना भी सामने आई।

सचिन एवं यूनुस अपना वोट अपने लिए नहीं डाल पाये

राजस्थान विधानसभा के लिए आज हुए मतदान के दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट और राज्य के परिवहन मंत्र यूनुस खान अपना वोट अपने लिए नहीं डाल पाये। पायलट ने आज अपना मत जयपुर के जालूपुरा स्थित मतदान केन्द्र पर डाला जबकि वह टोंक से कांग्रेस प्रत्याशी के रुप में चुनाव लड़ा। इसी तरह खान का डीडवाना विधानसभा क्षेत्र में मत हैं और वह टोंक से पायलट के सामने चुनाव मैदान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार थे। इसी तरह भाजपा छोड़कर भारत वाहिनी पार्टी बनाने वाले घनश्याम तिवाड़ी भी अपने लिए वोट नहीं डाल पाये। तिवाड़ी सांगानेर से वाहिनी के प्रत्याशी के रुप में चुनाव लड़ा जबकि उन्होंने अपना मत सिविल लाइंस विधानसभा क्षेत्र में डाला।

-साभार, ईएनसी, टाईम्स

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.