Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

डोकलाम विवाद में अमेरिका के बाद अब जापान भी अब खुलकर भारत के साथ आ गया है। जापान ने कहा है कि विवादित क्षेत्र में यथास्थिति को बदलने की कोई भी कोशिश किसी भी पक्ष की ओर से नहीं की जानी चाहिए। आपको बता दें कि दो महीने पहले भारत-चीन-भूटान सीमा पर स्थित डोकलाम में चीन ने सड़क बनाने की कोशिश की थी, जिसका भारत ने विरोध किया था। हालांकि यह क्षेत्र भूटान का है, लेकिन सामरिक लिहाज से यह भारत के लिए भी बेहद अहम है। यही कारण है कि करीब दो महीने से भारत की सेना यहां डटी हुई हैं।

After the US in the Dockham dispute, Japan has now come up with India openlyभारत में जापान के राजदूत केंजी हीरामत्सू ने एक बयान में कहा कि डोकलाम क्षेत्र में भारत और चीन के बीच तनातनी पर जापान करीबी नजर बनाए हुए है। हीरामत्सू ने कहा कि इससे पूरे पूर्वी एशियाई क्षेत्र की स्थिरता प्रभावित हो सकती है, इसलिए हमारा करीबी नजर रखना जरूरी है। उन्होंने कहा कि चीन और भूटान के बीच इस क्षेत्र को लेकर विवाद है और दोनों ही देश इसे विवादित क्षेत्र मानते हैं और विवादित क्षेत्रों में यह जरूरी हो जाता है कि इसमें शामिल किसी भी पक्ष को जमीन पर यथास्थिति बदलने के लिए सैन्य कार्रवाई से बचना चाहिए। ऐसी स्थिति में शांतिपूर्ण ढंग से विवाद सुलझाना चाहिए।

हीरामत्सू ने भारत के कदम पर कहा कि भारत भूटान के साथ अपने द्विपक्षीय समझौते के आधार पर ही इस मामले में दखल दे रहा है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी साफ किया है कि भारत कूटनीतिक चैनलों के जरिये बातचीत से इस विवाद के ऐसे हल की कोशिश करता रहेगा, जो दोनों पक्ष को स्वीकार्य हो।

जापान का यह बयान भारत द्वारा चीन के सड़क निर्माण को रोके जाने के दो महीने बाद आया है। इस बयान को क्षेत्र में शांति के लिए भारत की कोशिशों के समर्थन के रूप में देखा जा रहा है।

आपको बता दें कि हिरामत्सू भारत के साथ-साध भूटान में भी चीन के राजदूत हैं। उन्होंने अगस्त के पहले हफ्ते में भूटानी प्रधानमंत्री से मिलकर इस मामले में जापान के समर्थन का भरोसा दिया था।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.