Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

साध्वी प्रज्ञा के बयानों को लेकर चल रही बहस के बीच भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह का बड़ा बयान दिया है। अमित शाह ने साध्वी प्रज्ञा की उम्मीदवारी का बचाव किया है और कहा कि उन्हें सिर्फ एक फर्जी केस में फंसाया गया था। कोलकाता में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अमित शाह ने कहा कि हिंदू आतंकवाद के नाम पर एक फर्जी केस बनाया गया था, जिसमें उन्हें फंसाया गया था।

उन्होंने कहा कि समझौता ब्लास्ट मामले में स्वामी असीमानंद और बाकी सब को छोड़ा गया है, लेकिन किसी ने तो किया है ना। जिसने किया है उसे पहले सीबीआई ने पकड़ा था, लेकिन आज वो कहां है। पहले अमेरिका ने भी लश्कर का नाम लिया था, लेकिन धमाका करने वाले कहां हैं।

उधर, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान भी अब प्रज्ञा के बचाव में उतर आए हैं। एक इंटरव्यू में शिवराज ने प्रज्ञा का बचाव करते हुए उन्हें भारत की बेटी बताया। शिवराज ने कहा, भारत की एक ऐसी बेटी जो सन्यासी है, जिसने पूरे जीवन को एक मकसद के लिए समर्पित कर दिया, उन्हें बिना किसी अपराध के कानून का गलत इस्तेमाल कर जेल भेजा जाता है।

बंगाल में कानून-व्यवस्था के सवाल पर अमित शाह ने कहा कि बंगाल में लोकतंत्र का अस्तित्व समाप्त हो गया है। कानून व्यवस्था भी विफल हो गई है। बंगाल के अंदर लोकतंत्र स्वतंत्र नहीं है। लोगों के मत का गला घोटने का काम किया जा रहा है। मैं बंगाल की जनता से अपील करने आया हूं कि जरा भी मन में भय रखे बगैर बेखौफ होकर मतदान करिए।

अमित शाह ने आतंकवाद पर अपनी पार्टी की जीरो टॉलरेंस की पॉलिसी को दोहराते हुए कहा, मोदी सरकार ने आतंकवाद के खिलाफ पिछले पांच साल में जीरो टॉलरेंस की नीति को अपनाई है। हमारे संकल्प पत्र में हमने इस नीति को और आगे बढ़ाने का संकल्प किया है। लेकिन विपक्षी पार्टियां देश की सुरक्षा के अहम मुद्दे पर चुप दिखाई देती है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.