Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

जोधपुर जेल में सजा काट रहे रेप आरोपी आसाराम के बेटे नारायण साईं पर रेप केस के मामले में सूरत सेशन कोर्ट ने शुक्रवार को अपना फैसला सुनाया है।कोर्ट ने नारायण साईं को रेप के आरोप में दोषी करार दिया है। वहीं सजा का ऐलान 30 अप्रैल को किया जाएगा।  सूरत की रहने वाली दो बहनों की ओर से लगाए गए बलात्कार के आरोप में कोर्ट ने नारायण साईं को दोषी करार दिया है।

आपको बता दें कि आसाराम और उसके बेटे नारायण साईं पर गुजरात के सूरत में दो बहनों के साथ दुष्कर्म करने का आरोप है। बड़ी बहन ने आसाराम पर 1997 और 2006 में अहमदाबाद में स्थित मोटेरा आश्रम में यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था। वहीं छोटी बहन ने आसाराम के बेटे नारायण साईं पर यौन शौषण का आरोप लगाया था।

पुलिस ने पीड़ित बहनों के बयान और लोकेशन से मिले सबूतों के आधार पर नारायण साईं और आसाराम के खिलाफ केस दर्ज किया था। नारायण साईं और आसाराम के खिलाफ रेप का केस करीब 11 साल पुराना है।

पीड़िता छोटी बहन ने अपने बयान में नारायण साईं के खिलाफ ठोस सबूत देते हुए हर लोकेशन की पहचान की है। जबकि बड़ी बहन ने आसाराम के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था। आसाराम के खिलाफ गांधीनगर के कोर्ट में मामला चल रहा है। नारायण साईं के खिलाफ कोर्ट अब तक 53 गवाहों के बयान दर्ज कर चुकी है, जिसमें कई अहम गवाह भी हैं, जिन्होंने नारायण साईं को लड़कियों को अपने हवस का शिकार बनाते हुए देखा था या फिर इस कृत्य में आरोपियों की मदद की थी, लेकिन बाद में वो गवाह बन गए।

वहीं नारायण साईं रेप के मामले में FIR दर्ज होते ही फरार हो गया था। FIR दर्ज होने के करीब दो महीने बाद दिसंबर, 2013 में नारायण साईं हरियाणा-दिल्ली सीमा के पास से गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के वक्त नारायण साईं ने सिख व्यक्ति का भेष धर रखा था।

बता दें कि तत्कालीन सूरत पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने नारायण साईं को गिरफ्तार करने के लिए 58 अलग-अलग टीमें बनाई और तलाशी शुरू कर दी थी।

इतना ही नहीं नारायण साईं पर जेल में रहते हुए पुलिस कर्मचारी को 13 करोड़ रुपये की रिश्वत देने का भी आरोप लगा था, लेकिन इस मामले में नारायण साईं को जमानत तो मिल चुकी है,जबकि रेप के मामले में सेशन कोर्ट ने आज दोषी करार दिया है। इस सजा का ऐलान 30 अप्रैल को होगा।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.