Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

यूपी में पुलिस का ऑपरेशन क्लीन जारी है. कई महीनों से यूपी में चल रहे ताबड़तोड़ एनकाउंटर के बाद प्रदेश की योगी सरकार और पुलिस के आला हकीमों का दावा है कि अपराध पर काफी लगाम लगा है. अपराधियों में पुलिस का खौफ देखने को मिल रहा है. अपराधी या तो आत्मसमर्पण कर रहे हैं या उनकी गिरफ्तारी हो रही है. उधर अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश जारी किए जा रहे हैं. लेकिन फैजाबाद में जो कुछ हुआ उससे प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ और उनकी पुलिस के सारे दावे हवाई साबित होते नजर आ रहे हैं.

टैक्सी में बैठने को लेकर हुआ विवाद

महज एक टैक्सी वाहन में बैठने के विवाद को लेकर शहर के व्यस्ततम देवकाली बाईपास चौराहे के पास सरेआम एक पुलिसकर्मी को कुछ दबंगों ने जमकर पीटा और अभद्र गालियां दी. यह पूरा तमाशा काफी देर तक चलता रहा और लोग मोबाइल पर वीडियो बनाते रहे लेकिन कोई भी इस पुलिसकर्मी को बचाने के लिए आगे नहीं आया. करीब आधा दर्जन लोगों के द्वारा पीटा जा रहा यह पुलिसकर्मी हाथ जोड़कर रहम की भीख मांगता रहा लेकिन पीटने वाले लोग अपशब्दों की बौछार करते हुए सिपाही को पीटते रहे. मामला तब सामने आया जब सिपाही की पिटाई का लाइव वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुआ.

मदद की गुहार लगाता रहा सिपाही

वीडियो वायरल होने के बाद पिटाई के शिकार पुलिसकर्मी की पहचान जनपद के ग्रामीण क्षेत्र महाराजगंज थाने में तैनात कांस्टेबल राजेश यादव के रूप में हुई जो इस समय अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर की सुरक्षा में तैनात है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सुबह थाने से चलकर सिपाही देवकाली ओवरब्रिज चौराहे के पास पहुंचा, जहां पर वह अयोध्या जाने के लिए वाहन बदल रहा था. इसी दौरान एक टैक्सी वाहन में बैठने को लेकर कुछ लोगों से उसकी कहासुनी हो गई और उसके बाद करीब आधा दर्जन दबंगों ने सिपाही को जमीन पर गिराकर बुरी तरह पीटा.

घटना के समय सैकड़ों की संख्या में राहगीर घटनास्थल पर मौजूद थे . पिटाई के वीडियो में कुर्ता पजामा पहने एक शख्स प्रमुख रूप से सामने आ रहा है जबकि कुछ लड़के सिपाही की पिटाई कर रहे हैं. पुलिस ने इस मामले में हरिओम गुप्ता नामक एक व्यक्ति को हिरासत में ले लिया है जबकि अन्य युवक फरार हो गए हैं. सरेआम एक वर्दीधारी की पिटाई करने वाले यह दबंग कौन हैं इसकी जानकारी अभी नहीं हो पाई है. लेकिन इस वारदात में कहीं ना कहीं जिले में पुलिस पर सवालिया निशान लगाने का काम किया है पुलिस के आला अधिकारी आरोपियों की गिरफ्तारी में लगे हुए हैं.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.