Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

दिल्ली की सत्ता पर काबिज होने के बाद लगातार विवादों में रही आम आदमी पार्टी की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही है। अब पार्टी की मुश्किल आप विधायक ऋतुराज गोविंद ने बढ़ाई है। दरअसल दिल्ली बीजेपी के महिला मोर्चे की अध्यक्ष पूनम पाराशर झा ने आरोप लगाया है कि आप की जनसंवाद यात्रा के दौरान दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय की मौजूदगी में किराड़ी से आप के विधायक ऋतुराज गोविंद ने उन्हें लेकर अभद्र टिप्पणी की और बेहद अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया।

बीजेपी की महिला नेताओं का यह भी आरोप है कि इस घटना की शिकायत करने के लिए जब वे दिल्ली महिला आयोग के दफ्तर में गईं, तो आयोग की अध्यक्ष ने उनसे मिलने से भी इनकार कर दिया। महिला नेताओं ने इस मामले पर मुख्यमंत्री केजरीवाल की चुप्पी का हवाला देते हुए आप पर महिला विरोधी होने का आरोप लगाया है। महिला नेताओं ने चेतावनी दी है कि अगर केजरीवाल अपने विधायक को निलंबित करके उनकी गलती के लिए माफी नहीं मांगते हैं, तो दिल्ली की महिलाएं चुप नहीं बैठेंगी और इस हरकत के खिलाफ सड़कों पर उतरेंगी।

दिल्ली बीजेपी के महिला मोर्चे की अध्यक्ष पूनम पाराशर झा, साउथ एमसीडी में सदन की नेता कमलजीत सहरावत और हाल ही में आप छोड़कर बीजेपी में शामिल हुईं आप के महिला मोर्चे की पूर्व अध्यक्ष रिचा पांडे मिश्रा ने सोमवार को प्रदेश कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके आप विधायक ऋतुराज पर गंभीर आरोप लगाए।

Also Read: POK में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पाकिस्तानी सेना ने बरसाई लाठियां

कमलजीत सहरावत ने कहा कि ऋतुराज गोविंद ने जिस तरह से एक महिला के खिलाफ अमर्यादित शब्दों का इस्तेमाल किया, उसको सार्वजनिक रूप से दोहराया नहीं जा सकता। राजनीतिक लाभ लेने के लिए आप इतने निचले स्तर तक जा चुकी है और पार्टी के मुखिया फिर भी चुप हैं। सहरावत ने आगे कहा कि दिल्ली में महिलाओं को न्याय दिलाने का ढोंग करने वाली दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भी मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं, क्योंकि वह आयोग की अध्यक्ष कम और आप की महिला विंग की अध्यक्ष ज्यादा हैं।

केजरीवाल पर महिला विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कमलजीत सहरावत ने कहा कि मामला चाहे संदीप कुमार का हो, सोमनाथ भारती का हो, सोनी मिश्रा का हो या फिर संतोष कोली का हो, इन सब मामलों में आरोपियों को मुख्यमंत्री का संरक्षण प्राप्त हुआ। इसी वजह से आज तक किसी भी मंत्री या विधायक के खिलाफ उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की।

उन्होंने मांग की कि केजरीवाल अपने विधायक को निलंबित करके पूनम पाराशर झा से मांफी मांगे। वहीं पूनम पाराशर ने कहा कि मुझे उम्मीद थी कि मुख्यमंत्री अपनी पार्टी के विधायक की शर्मनाक टिप्पणी पर खुद संज्ञान लेकर कार्रवाई करेंगे। लेकिन ऐसा न करके उन्होंने एक बार फिर दिल्ली की महिलाओं का अपमान किया है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.