Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

सीमा पर लगे बाड़ और सड़कों की तस्वीरें जैसी खुफिया सूचनाएं पाकिस्तानी एजेंट के साथ कथित तौर पर साझा करने को लेकर बीएसएफ के एक जवान को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने रविवार को बताया कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की खुफिया शाखा पिछले कुछ महीनों से शेख रैजुद्दीन की संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रख रही थी। रैजुद्दीन महाराष्ट्र के रेनपुरा गांव का निवासी है और बीएसएफ के 29 वीं बटालियन में पंजाब के फिरोजपुर सेक्टर में तैनात था।

पुलिस ने बताया कि रैजुद्दीन ने पाकिस्तानी गुप्तचर एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलीजेंस (आईएसआई) के एक एजेंट मिर्जा फैसल से बाड़ और सीमावर्ती सड़कों की तस्वीरें, बीएसएफ के वरिष्ठ अधिकारियों का फोन नंबर और कुछ अन्य खुफिया सूचनाएं कथित तौर पर साझा की थी।

पुलिस ने बताया कि आरोपी ने अपने मोबाइल फोन से सूचना साझा किया था। उन्होंने बताया कि 29 वीं बटालियन के उप कमांडेंट से एक शिकायत मिलने के बाद रैजुद्दीन के खिलाफ ममदूत थाना में सरकारी गोपनीयता कानून और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के संबंधित धाराओं के तहत एक मामला दर्ज किया गया है। जांच अधिकारी रंजीत सिंह ने रविवार को बताया कि पुलिस रिमांड के लिए जवान को अदालत में पेश किया जाएगा।

इससे पहले पिछले महीने ही उत्तर प्रदेश के मेरठ छावनी में सेना की नौकरी करने वाले जवान को पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था। सैनिक मेरठ छावनी में बतौर सिग्नलमैन तैनात था। मेरठ छावनी के सैनिक पर आरोप लगा था कि उसने पाकिस्तान की आईएसआई को पश्चिमी कमान बेस के तहत आने वाली डिविजन से जुड़ी तमाम जानकारियां साझा की। सैनिक पिछले 10 महीने से पाकिस्तानी लोगों से संपर्क में था। पाकिस्तान के नंबरों पर लगातार बात करने से इस पर शक पैदा हुआ था।

वहीं, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) के इंजीनियर निशांत अग्रवाल को पाकिस्तान को सीक्रेट जानकारी देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उन पर ब्रह्मोस मिसाइल यूनिट की जानकारी लीक करने का आरोप लगा था। निशांत नागपुर में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) में 4 साल से काम कर रहा था। उसके पास भारत की अति महत्वपूर्ण ‘ब्रह्मोस’ मिसाइल से जुड़ी सीक्रेट जानकारियों की पहुंच थी।निशांत अग्रवाल पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI को जानकारी देने का आरोपलगा था। उस पर ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.