Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारत और चीन के बीच डोकलाम पर चल रहे सीमा विवाद में अब एक नया मोड़ आया है। खबर आ रही है कि चीनी सेना ने अपने सैनिकों को डोकलाम से 100 मीटर पीछे हटने को कहा  है। हालांकि भारतीय सेना ने चीनी सेना से डोकलाम से 250 मीटर पीछे जाने को कहा था।

इसी बीच यह  भी खबर आ रही है कि भारतीय सेना ने डोकलाम के आसपास के गांव को खाली करने का आदेश दे दिया है

चीन की तरफ से कहा गया है कि उनकी सेना विवादित स्थल से 100 मीटर पीछे हटने को तैयार है लेकिन भारतीय सेना को भी पूर्व स्थिति में लौटना होगा। इस संवाद और सहमति का सीधा सा मतलब इतना है कि डोकलाम विवाद से दोनों ही देश सम्मानजनक विदाई चाहते हैं।

दूसरी तरफ खबर यह भी है कि सेना ने नाथंग गांव में रहने वाले लोगों को तुरंत ही गांव खाली करने के आदेश दिए हैं। हालांकि सेना के अधिकारियों ने सैन्य गतिविधियों पर कोई बात नहीं की है पर सेना के कुछ वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने कहा कि यह वार्षिक अभ्यास है जो सितंबर में होता था लेकिन इस साल पहले ही कर दिया गया है।

कुछ रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय सेना क्षेत्र में ट्रूप मूवमेंट को नियमित रखरखाव कदम बता रही है। सैन्य सूत्रों की मानें तो फिलहाल सेना ‘नो वॉर, नो पीस’ की स्थिति में है और सैन्य भाषा में इसका मतलब दुश्मन के साथ एक टकराव की स्थिति में होना है।

वहीं अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि खाली करने का यह आदेश सुकना से डोकलाम की ओर बढ़ रहे 33 क्रॉप के जवानों के ठहरने के लिए खाली कराया गया है या भारत-चीन के बीच किसी मुठभेड़ की स्थिति में नागरिकों को हताहत होने से बचने के लिए।

इसी बीच, चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने एक बेनाम चीनी सैन्य अधिकारी के हवाले से लिखा है कि चीनी सैनिक डोकलाम से एक कदम भी पीछे नहीं हटेंगे। यानी चीनी मीडिया अभी भी उस विवाद को हवा देने में लगी हुई है।

इससे पहले भी चीनी अखबार ने भारत को लिए जंग के लिए ललकारा था। चाईना डेली ने अपने संपादकीय में लिखा था, “दो ताकतों के बीच टकराव होने की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। समय हाथ से निकलता जा रहा है।” संपादकीय में यह भी लिखा था कि भारत को जल्द ही अपने जवान क्षेत्र से हटा लेने चाहिए ताकि दोनों मुल्कों के बीच बातचीत हो सके और किसी तरह का संघर्ष न हो।

गौरतलब है कि पिछले 6 हफ्ते से 350 भारतीय जवान डोकलाम में बने हुए हैं। फिलहाल चीन के इस कदम को दोनों द्वारा शांतिपूर्ण ढंग से हल करने की पहल के रूप में देखा जा सकता है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.