Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

राष्ट्रीय आंदोलन में भाग लेने वाले गांधी-नेहरु परिवार से इतर अन्य नेताओं को महत्व नहीं देने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आरोपों को खारिज करते  हुए कांग्रेस ने रविवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) स्वतंत्रता संग्राम की विरासत को हथियाने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनु अभिषेक सिंघवी ने यहां पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री लालकिले से गलत बयानी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नेताजी के नारे ‘तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा’ को मोदी ने बदलकर ‘ तुम मुझे खून पसीना दो, मैं तुम्हें भाषण दूंगा’ कर दिया है।

सिंघवी ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय आंदोलन में भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा वाले लोगों का योगदान नहीं रहा है बल्कि कई अवसरों पर उन्होंने राष्ट्र के हित काम करते हुए ब्रिटिश शासन का साथ दिया। उन्होंने कहा कि मोदी राष्ट्रीय आंदोलन की विरासत पर कब्जा करना चाहते हैं इसलिये नेता सुभाषचंद्र बोस और सरदार वल्लभभाई पटेल और अन्य राष्ट्रीय नेताओं का गलत संदर्भ में इस्तेमाल करते हैं।

नेताजी और सरदार पटेल के मुस्लिम लीग, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तथा हिन्दू महासभा के बारे में विचारों का उल्लेख करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि ये नेता समभाव और समरसता में विश्वास करते थे। भाजपा और उसके नेता इन राष्ट्रीय नेताओं के विचारों का प्रतिनिधित्व नहीं करते।

गांधी – नेहरु परिवार से इतर राष्ट्रीय नेताओं के योगदान को नहीं स्वीकार करने के आरोप को खारिज करते हुए  सिंघवी ने कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने लाल किले के प्राचीर से दिये गये पहले भाषण में नेताजी को याद किया था। आजाद हिन्द फौज का मुकदमा पंडित नेहरु ने लड़ा था। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1975 में नेताजी अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया था। इसके अलावा कांग्रेस शासन में मोरांग में नेताजी और आजाद हिन्द फौज से संबंधित संग्रहालय की स्थापना की गयी। उन्होंने कहा कि नेताजी ने 1938 में नेशनल प्लानिंग कमेटी की स्थापना की थो जो आजादी के बाद योजना आयोग बना। लेकिन श्री मोदी ने इस संस्था को खत्म कर दिया।

श्री सिंघवी ने कहा कि आजाद हिन्द फौज से संबंधित इस शुभ अवसर को श्री मोदी ने राजनीति का मंच बना दिया और आरोप प्रत्यारोप पर उतर गये। प्रधानमंत्री को ऐसे शुभ अवसर पर ऐसी बयानबाजी करना शोभा नहीं देता।

एक सवाल पर कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी सरकार राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का मुद्दा लंबित करना चाहती है। इसलिये संघ के माध्यम से कानून बनाने की मांग करा रही है। इससे यह मामला अदालत में चला जाएगए और इसे अन्य मामलों के साथ नत्थी कर दिया जाएगा।

जम्मू कश्मीर में स्थानीय निकायों के चुनावों में बहुत कम मतदान को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए श्री सिंघवी ने कहा कि केंद्र सरकार, राज्य सरकार और राज्यपाल को इस बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए।

-साभार,ईएनसी टाईम्स

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.