Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारतीय वायुसेना अभी तक का अपना सबसे बड़ा युद्धाभ्यास करने जा रही है। पाक सीमा, चीन सीमा समेत पूरे देश में वायु सेना के सभी ऑपरेशनल कमांड और उनके संसाधन इस वारगेम में इस्तेमाल किए जाएंगे। 15 दिन चलने वाले इस अभ्यास को ‘गगन शक्ति’ नाम दिया गया है। स्वदेशी फाइटर जेट तेजस पहली बार किसी अभ्यास में हिस्सा लेगा। इसमें 5 तेजस अपने समकक्ष मिग-21 लड़ाकू विमानों के साथ उड़ान भरेंगे।

इस रविवार से शुरू होने वाला यह वॉरगेम बड़े पैमाने पर होगा। एयरफोर्स के करीब एक हजार विमान इस अभ्यास में शामिल होंगे। इनमें 600 से ज्यादा फाइटर जेट, जैसे मिग-21, मिग-29, जैगुआर, मिराज, सुखोई-30 एमकेआई और तेजस शामिल हैं। इनके अलावा स्ट्रेटेजिक परिवहन विमान सी-17 ग्लोब मास्टर, सी-130 जे सुपर हर्क्यूलिस, अत्याधुनिक हेलीकॉप्टर सी-17 वी5 और कई अनमैन्ड एयरक्राफ्ट भी इस वॉरगेम का हिस्सा होंगे। देश की तीनों महिला फाइटर अवनि चतुर्वेदी, भावना कांत और मोहना सिंह भी अपने इस पहले युद्धाभ्यास में शामिल होंगी।

अगले 15 दिन तक पूरी वायुसेना-रेड फोर्स, ब्लू फोर्स और व्हाइट फोर्स में बंट जाएगी। ब्लू फोर्स देश की रक्षा के लिए होगी, रेड फोर्स दुश्मन की मानी जाएगी और व्हाइट फोर्स रेफरी की भूमिका निभाएगी। इसी तरह देश को भी ‘अपने’ और दुश्मन के इलाके में बांटा जाएगा।

अटैक और काउंटर अटैक को व्हाइट फोर्स रिकॉर्ड करेगी और सभी नतीजों को विश्लेषण के लिए दर्ज किया जाएगा। इन परिणामों से देखा जाएगा कि ब्लू फोर्स ने कितने कामयाब अटैक किए, दुश्मन के कितने ठिकाने तबाह किए और कितने विमानों को मार गिराया।

इन सभी हमलों को ‘इलेक्ट्रॉनिक किल’ के जरिए रिकॉर्ड किया जाता है। यानी हमला बोलने का इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड दर्ज होता है जिसमें यह पता चलता है कि जिस प्वाइंट से मिसाइल विमान से दागी गई, अगर असली में हमला होता तो वह कहां जाकर वार करती।

इस युद्धाभ्यास में खासतौर से पूर्वी सेक्टर यानि नॉर्थ ईस्ट पर जोर रहेगा। लद्दाख से लेकर उत्तराखंड और अरुणाचल तक फाइटर गरजेंगे। सटीक बॉम्बिंग, सर्जिकल स्ट्राइक और नेटवर्क सेंट्रिक वारफेयर का अभ्यास होगा।

—ब्यूरो रिपोर्ट एपीएन

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.