Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव 2019 को शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने के लिए छापेमारी और चेकिंग दोनों हो रही है। ऐसी है चेकिंग का सामना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी करना पड़ा, लेकिन चेकिंग करने वाले अधिकारी को ऐसा करना भारी पड़ गया।

दरअसल, चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हेलीकॉप्टर की ओडिशा के संबलपुर में तलाशी लेने पर बीती रात एक आईएएस अधिकारी को निलंबित कर दिया।

वैसे मोहसिन ने सिर्फ पीएम मोदी के हेलिकॉप्टर की ही तलाशी नहीं ली, बल्कि उन्होंने ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक और पेट्रोलियम मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान के भी हेलिकॉप्टर की तलाशी ली थी।

जिला कलेक्टर और पुलिस महानिदेशक की रिपोर्ट के आधार पर चुनाव आयोग ने मोहम्मद मोहसिन को घटना के एक दिन बाद निलंबित कर दिया।

चुनाव आयोग ने अपने निर्देश में कहा है कि आईएएस अधिकारी मोहम्मद मोहसिन ने एसपीजी सुरक्षा प्राप्त के खिलाफ निर्देंशों के मुताबिक कार्रवाई नहीं की।

चुनाव आयोग के प्रवक्ता ने कहा, ‘जैसा कि आदेश में जिक्र किया गया है कि निर्देश दिनांक 10.4.14 में कहा गया है कि एसपीजी सुरक्षा प्राप्त लोगों को जांच से बाहर रखा जाए।’

वहीं ऐसा कोई नियम नहीं है, जो कि चुनाव के दौरान तलाशी से किसी को छुट देता हो। इसी प्वाइंट को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने निशाना साधा है।

कांग्रेस ने ट्वीट करते हुए कहा है, ‘एक अधिकारी को वाहनों की जांचने पर चुनाव आयोग ने निलंबित कर दिया। इसमें प्रचार के लिए आधिकारिक वाहनों के उपयोग के नियम का हवाला दिया गया है। इस नियम के तहत पीएम के वाहन को तलाशी से कोई छूट नहीं है। मोदी अपने हेलीकॉप्टर में क्या लेकर चलते हैं कि वह भारत को नहीं दिखाने चाहते।’

वहीं आम आदमी पार्टी ने ट्वीट किया और कहा कि ‘पीएम मोदी के हेलीकॉप्टर की तलाशी लेने वाले अधिकारी का निलंबन। चौकीदार अपने ही सुरक्षित घेरे में रहते हैं। क्या चौकीदार कुछ छुपाने की कोशिश कर रहे हैं।’

बता दें कि 1996 बैच के कर्नाटक कैडर के मोहम्मद मोहसिन पर ड्यूटी की अवहेलना और उपेक्षा करने का आरोप लगा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक अधिकारी ने पीएम नरेंद्र मोदी के हेलीकॉप्टर की अचानक तलाशी ली, जिसकी वजह से उन्हें 15 मिनट की देरी हुई।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.