Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

रुड़की में तैनात एक कड़क महिला अधिकारी ने भ्रष्टाचारियों की हवा निकाल कर रख दी, अस्पताल प्रशासन को जमकर फटकार लगाई…रुड़की स्थित स्वास्तिक हॉस्पिटल में बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़े और अनियमितताओं की शिकायत पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया…ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने रुड़की के स्वास्तिक हॉस्पिटल में अनियमितता की शिकायत मिलने पर छापेमारी की…इसके बाद अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया…इस दौरान बड़े पैमाने पर खामियां सामने आने पर आने पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल ने अस्पताल का मेडिकल स्टोर सील कर दिया…

जांच के दौरान स्वास्तिक हॉस्पिटल में तैनात कोई भी डॉक्टर न तो अपने रजिस्ट्रेशन और न ही अपनी डिग्री के सबूत पेश कर सका…इस पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल ने अस्पताल के मालिक डॉक्टर संजीव सैनी को जमकर फटकार लगाई…खफा ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने रुड़की सीएमएस को स्वास्तिक हॉस्पिटल में भर्ती सभी मरीजों को सिविल हॉस्पिटल में रेफर करने के निर्देश दिए…महिला अधिकारी ने अस्पताल में अनियमितताओं की जांच हरिद्वार सीएमओ को सौंपी है…

अपनी कड़क और इमानदार छवि के लिए मशहूर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट की जांच में सिविल अस्पताल की महिला चिकित्सा अधिकारी की भूमिका भी संदिग्ध पायी गयी…महिला चिकित्सक ही गर्भवती महिलाओं को खास नंबर की 108 एम्बुलेंस से स्वास्तिक हॉस्पिटल में भेजती थी…जिसके एवज में महिला चिकित्सका अधिकारी को स्वास्तिक अस्पताल से मोटी रकम मिलती थी…देर रात सिविल अस्पताल से आई गर्भवती महिला से ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल ने अस्पताल में होने वाली दिक्कतों को लेकर पूछताछ की…इसके बाद उनका गुस्सा और भड़क गया और उन्होंने पूरे अस्पताल के इंतजामों का पोस्टमॉर्टम कर डाला…

रुड़की का स्वास्तिक अस्पताल पहले भी काफी चर्चाओं में रह चुका है…इस अस्पताल में दिखाने के लिए डॉक्टरों की बड़ी-बड़ी डिग्रियों के बोर्ड लगे हुए हैं…लेकिन बड़ी डिग्रियों वाला कोई भी डॉक्टर हॉस्पिटल में तैनात नहीं है…अब, पूरे मामले की जांच अब हरिद्वार स्वास्थ्य विभाग को सौंप दी गई है…उम्मीद है कि, जल्द ही स्वास्तिक हॉस्पिटल के फर्जीवाड़े में शामिल रसूखदार भी जांच की जद में आकर बेपर्दा होंगे ।

ब्यूरो रिपोर्ट एपीएन

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.