Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

काशी क्योटो तो नहीं बन पाया अब एक बार फिर उम्मीद है कि पेरिस बनेगा… प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब जापान के क्योटो शहर गए,और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे ​को काशी लेकर आये और काशी के गंगा की विश्व प्रशिद्ध आरती दिखाए, तो चर्चा हुए कि बनारस का  विकास क्योटो के तर्ज पर किया जाएगा। अधिकारी और वाराणासी के तत्कालीन मेयर भी क्योटो पहुँच गए ताकि उस क्योटो के तर्ज पर काशी का विकास किया जा सके। लेकिन काशी में कुछ ख़ास विकास नहीं हो पाया… अब जब फ्रांस के राष्ट्रपति को लेकर मोदी वाराणासी आ रहे हैं तो लोगो को एक बार फिर विकास की उम्मीद जगी है,.. अब लोगों में आस जग रही है कि इस बार काशी पेरिस बनेगा… यानि काशी के लोग बार बार उम्मीद करते हैं लेकिन हाथ लगती है नाउम्मीदी… फ्रांस से पीएम मोदी के मेहमान काशी आ रहे हैं… फ्रांस के ऱाष्ट्रपति मैक्रो की मेहमाननवाजी के लिए काशी पलके बिछाए हुए हैं.. उम्मीदें उफान पर है कि मोदी और मैक्रो की दोस्ती का फायाद काशी को मिलेगा…ऐसे तो काशी और फ्रांस की दूरी सात हजार किलोमीटर से ज्यादा की है लेकिन दोनों के बीच रिश्ते दोस्ती काफी समय से है….. नदियों के किनारे बसे दोनों ही शहर खूबसूरत शिल्प के लिए जाने जाते हैं. काशी की बुनकरी में फ्रांस के कुछ झलक भी दिखती है.. दोनों ही जगहों पर रेशम की बुनाई भी एक तरह की होती है… ये तरीका फ्रांस से ही काशी पहुंचा… फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों काशी आएंगे तो दीनदयाल हस्तकला संकुल जाकर काशी के शिल्प को भी देखेंगे.. ऐसे में शिल्पकारों को उम्मीद है कि फ्रांसीसी राष्ट्रपति के आने से शिल्प कारोबार में पंश लगेंगे…

फ्रांस में भारतीय मूल के एक लाख से ज्यादा लोग रहते हैं. फ्रांस और भारत के बीच द्विपक्षीय साझेदारी के रिश्ते की नींव दो दशक पहले ही डाली गई थी… दोनों देशों के बीच 72 हजार करोड़ से ज्यादा का कारोबार है. फ्रांस भारत में नवां सबसे बड़ा विदेशी निवेशक है. देश में हजार से ज्यादा फ्रांसीसी कंपनियां हैं.. तकरीबन 120 भारतीय कंपनियों में फ्रांस ने 8500 करोड़ से ज्यादा का निवेश किया हुआ है. जिनसे सात हजार के करीब लोगों को रोजगार मिला हुआ है.. फ्रांसीसी राष्ट्रपति काशी आ रहे हैं… वाराणसी में पूरी तैयारी हो रही है.. खुद सीएम योगी आदित्यनाथ तैयारियों का जायजा ले रहे हैं.. अब देखना होगा कि काशी का कल्याण होगा या फिर काशी के हाथ मायूसी लगेगी?

—एपीएन ब्यूरो

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.