Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (ICJ) में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को एक पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा मौत की सजा दिए जाने के मामले में चार दिवसीय सार्वजनिक सुनवाई सोमवार को शुरू हुई। पहले दिन भारत की तरफ से हरीश साल्वे ने पक्ष रखा।  वकील हरीश साल्वे ने यहां पाकिस्तान की पोल खोली। उन्होंने कहा कि सभी दस्तावेज चीख-चीख कर ये कह रहे हैं कि पाकिस्तान की तरफ से किस तरह से इस मामले में एकतरफा कार्रवाई की गई। भारतीय पक्ष को सुनने के बाद अदालत की कार्यवाही मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी गई।

मंगलवार को भारत के आरोपों के जवाब में पाकिस्तान के वकील ने अपना पक्ष रखा। पाक के अटॉर्नी जनरल ने अपनी दलीलों की शुरुआत झूठ से की और जाधव को ही नहीं, बल्कि भारत पर भी आतंक प्रायोजक होने का आरोप लगाया। पाक अटॉर्नी जनरल अनवर मंसूर खान ने कहा, ‘मैं खुद भारतीय क्रूरता का शिकार रहा हूं। एक युवा आर्मी ऑफिसर के तौर पर मैं भारत की जेल में बंद था। पाकिस्तान के आर्मी स्कूल में हुए आतंकी हमले में 140 मासूमों की जान गई थी। यह भारत समर्थित अफगानिस्तान का किया आतंकी हमला था।’

पाकिस्तान ने कहा, ‘जाधव बहुत से स्थानीय लोगों के संपर्क में था और उसने कई को राज्य विरोधी ताकतों को सूइसाइड बॉम्बर बनने के लिए तैयार किया था ताकि पाकिस्तान में आतंक फैलाया जा सके। चीन-पाकिस्तान कॉरिडोर को भी प्रभावित करने की कोशिश की गई, जो पाकिस्तान की प्रगति का अहम हिस्सा है। यह किसी एक व्यक्ति का काम नहीं है। यह पूरी तरह से राज्य प्रायोजित है।’

पाकिस्तान ने अपनी दलील में दावा किया कि 1947 से भारत की तरफ से पाकिस्तान में अशांति फैलाने की कोशिश हो रही है। हमने मानवता के आधार पर परिवार को जाधव से मिलने की अनुमति दी, लेकिन भारत की तरफ से कभी ऐसी कोई मानवीयता आज तक नहीं दिखाई गई है। भारत के जेल में बंद पाकिस्तानियों के लिए कब भारत ने ऐसी रहमदिली दिखाई?

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.