Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

राम मंदिर निर्माण की मांग को लेकर आमरण अनशन कर रहे महंत परमहंस दास की तबियत बिगड़ने पर रविवार देर रात लखनऊ स्थित संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) में भर्ती कराया गया। आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को यहां बताया कि अनशन पर बैठे महंत की तबियत ज्यादा खराब होने की वजह से उन्हें आईसीयू में रखा गया है।  उन्होंने बताया कि अनशन पर बैठे परमहंस की तबियत बिगड़ने पर रविवार को पुलिस उन्हें उठा ले गई थी। पहले फैज़ाबाद में उन्हें भर्ती कराया गया। रात में हालात बिगड़ने पर प्रशासन ने उन्हें आनन फानन पीजीआई लाकर भर्ती कराया। पीजीआई निदेशक प्रो राकेश कपूर की देखरेख में उनका इलाज चल रहा है।

निदेशक प्रोफेसर राकेश कपूर ने बताया कि परमहंस जी कई दिन से उपवास पर रहे जिसके कारण कीटोन बढ़ गया है शरीर में पानी की कमी हो गई है शरीर का भार कम हो गया है ग्लूकोज का स्तर कम हो गया है जिसके कारण रात में 2:00 बजे भर्ती किया गया बाकी जांच कराई जा रही हैं अभी स्थिति उनकी गंभीर है शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए ड्रिप सहित कई उपाय किए जा रहे हैं परमहंसदास सात दिन से अनशन पर थे। उनकी मांग है कि जब तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अयोध्या आकर मंदिर निर्माण की घोषणा नहीं करते वह अनशन जारी रखेंगे। सोमवार उनके अनशन का आठवां दिन है।

प्रवीण भाई तोगड़िया रात ढाई बजे पहुचे अयोध्याः महंत परमहंस पर पुलिसिया कार्यवाही से नाराजगी दिखाते हुये अंतरराष्ट्रीय हिन्दू परिषद के अध्यक्ष है प्रवीण भाई तोगडिया ने कहा कि अब ये आंदोलन होगा देश व्यापी। संत परमहंस को खींचकर बलपूर्वक ले जाकर पुलिस ने उनका अपमान किया है। संत का ये अपमान भगवान राम का है अपमान।सत्ता में बैठे लोग राम मंदिर बनाना नही चाहते। राम मंदिर की बात करने वालो का दमन किया जा रहा है लेकिन सौ करोड़ हिंदुओं की आवाज़ कोई नही दबा सकता। पूरे देश से 21 अक्टूबर को अयोध्या कूच की तैयारी है। मंदिर निर्माण के लिए लाखों गांव मे हिंदुओं को जगाने का तैयारी चल रही है। अगर मंदिर न बना तो लोग लोकतांत्रिक वोटो से उत्तर देंगे। रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विशेष दूत बनकर अयोध्या पहुंचे जिले के प्रभारी मंत्री सतीश महाना से वार्ता के बाद परमहंसदास का रुख कुछ नरम पड़ा। अब अनशनरत संत सोमवार को महाना के साथ लखनऊ आएंगे जहां मुख्यमंत्री वीडियो कालिंग के जरिये उनकी प्रधानमंत्री से बात कराएंगे। संभावना जताई गई है कि इसके बाद वह अपना अनशन तोड़ देंगे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.