Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने कहा है कि अयोध्या रामजन्मभूमि है और वहां राम मंदिर ही बनना चाहिए। अपने इस बयान के साथ ही अपर्णा ने यह भी साफ कर दिया कि वो बीजेपी के साथ नहीं बल्कि भगवान राम के साथ हैं। वह गुरुवार की सुबह बाराबंकी स्थित देवा शरीफ दरगाह पर पहुंचीं थीं।

समाजवादी पार्टी के टिकट पर विधानसभा का चुनाव लड़ चुकी  अपर्णा ने कहा, “अयोध्या  राम की जन्मभूमि है। ऐसा हमारे रामायण में लिखा है। इसलिए वहां राम मंदिर का निर्माण होना ही चाहिए।” हालांकि, अपर्णा का बयान समाजवादी पार्टी के मौजूदा अध्यक्ष अखिलेश यादव के लिए ज्यादा परेशानी का सबब नहीं है, क्योंकि उन्होंने इस दौरान अपने राजनीतिक पसंद- नापसंद का भी एलान कर दिया।

केशव प्रसाद मौर्य ने राम मंदिर बनवाने का बताया तीसरा रास्ता, संसद में गूंजेगा ‘जय श्रीराम’

2019 में लोकसभा चुनाव के मैदान में उतरने को लेकर जब सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वो चाचा शिवपाल सिंह यादव की पार्टी से चुनाव लड़ेंगी। इसके साथ ही एक सवाल के जवाब में अपर्णा यादव ये साफ करना नहीं भूलीं कि नेताजी मुलायम सिंह यादव का आशीर्वाद उनके साथ है।

रामविलास वेदांती बोले, रातों-रात शुरु हो सकता है राम मंदिर निर्माण

देवा शरीफ में चादर चढाने के बाद अपर्णा ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे की दावत में शिरकत की। अपर्णा के बयान पर जब शिवपाल यादव के बेटे और समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के नेता आदित्य यादव से सवाल किया गया तो उन्होंने इसे अपर्णा का निजी बयान बताया। समाजवादी पार्टी ने कभी भी मंदिर के निर्माण का खुलकर समर्थन नहीं किया है, बल्कि जब अयोध्या में 1990 में कारसेवकों पर गोलियां चलाई गई थीं, तब अपर्णा यादव के ससुर मुलायम सिंह यादव सूबे के मुख्यमंत्री थे। दिलचस्प बात ये है कि अपर्णा का ये बयान ऐसे वक्त आया है जब अखिलेश यादव इटावा में विष्णु मंदिर बनाने की बात कर रहे हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.