Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

टेरर फंडिंग मामले की जांच कर रहे एनआईए के तीन अधिकारी अब खुद जांच के घेरे में हैं। यह मामला तब सामने आया जब गुरुग्राम के एक उद्योगपति ने शिकायत की कि एनआईए के तीन अधिकारी उसका नाम फलाह-ए-इंसानियत मामले से हटाने के एवज में दो करोड़ रुपये देने के लिए दबाव बना रहे हैं।

इस मामले पर टिप्पणी करते हुए एनआईए के प्रवक्ता ने कहा, कि डीआईजी रैंक के अधिकारी इन आरोपों की जांच करेंगे। निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए तीनों अधिकारियों का तबादला कर दिया गया है। इनमें एनआईए कैडर में शामिल एक एसपी हैं जो पहले भी कई महत्वपूर्ण मामलों से जुड़े रहे हैं, जिसमें समझौता एक्सप्रेस और अजमेर शरीफ आतंकी मामले शामिल हैं।

दो अन्य अधिकारियों में एक सहायक उप निरीक्षक, एएसआई और एक फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट है। इन्हें वापस सीमा सुरक्षा बल  और राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो भेज दिया गया है। तीनों अधिकारी पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के मुखिया हाफिज सईद द्वारा चलाए जाने वाले फलाह-ए-इंसानियत की जांच कर रहे थे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.