Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने गुरुवार को कहा कि सत्ता परिवर्तन के बाद भले ही पाकिस्तान के बोल में सुधार आया हो लेकिन नियंत्रण रेखा पर जमीनी हकीकत में कोई बदलाव नहीं है और सेना किसी भी स्थिति से निपटने के लिए मोर्चे पर पूरी तरह तैयार है।

जनरल रावत ने सेना दिवस से पहले यहां वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में सवालों के जवाब में कहा कि पाकि स्तान में इमरान खान सरकार आने के बाद काफी परिवर्तन हुए हैं और उनकी बातों तथा बोल में काफी सुधार आया है लेकिन जहां तक जमीनी हकीकत की बात है वह ज्यों की त्यों है, उसमें बदलाव नहीं हुआ है। अभी भी सीमा पार बड़ी संख्या में आतंकवादी घुसपैठ की फिराक में रहते हैं और पाकिस्तानी सेना उन्हें घुसपैठ करने और वापस लौटने के लिए फायर कवर देती रहती है। इसके कारण संघर्ष विराम समझौते का बार-बार उल्लंघन होता है।

उन्होंने कहा कि भारतीय सेना उनकी फायरिंग का जवाब देती है और इसके परिणाम स्वरूप असैनिक भी हताहत होते हैं। सेना की जवाबी कार्रवाई में या तो आतंकवादी मारे जाते हैं या घुसपैठ में विफल रहने पर लौटने की कोशिश करते हैं या वहीं छिप जाते हैं। उन्होंने कहा कि अब सेना इनकी तलाशी का काम मानव रहित विमानों के जरिये कर रही है और इस दौरान हमारे दो यान गिराये भी गये हैं लेकिन यह कोई चिंता का विषय नहीं है। अच्छी बात यह है कि  इस काम के लिए जाने वाले जवान अब दुश्मन की बारूदी सुरंग की चपेट में आने से बच जाते हैं। उन्होंने कहा कि सेना हर तरह की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है।

पंजाब सीमा पर घुसपैठ की आशंका वाली रिपोर्टों पर उन्होंने कहा कि यह आसान नहीं है क्योंकि वहां सीमा पर तकनीकी बाड़ लगायी गयी है जिसमें राडार और सेंसरों का इस्तेमाल किया गया है। सुरंग के रास्ते घुसपैठ की आशंका से उन्होंने इन्कार नहीं किया लेकिन साथ ही कहा कि अब इसका पता लगाने की भी प्रौद्योगिकी आ गयी है और उसका इस्तेमाल किये जाने की जरूरत है।

जनरल रावत ने कहा कि चीन से लगती सीमा पर स्थिति में अभी काफी सुधार है और सेना में निचले रैंक के स्तर पर भी दोनों पक्षों में अच्छा संपर्क है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच वुहान सम्मेलन के बाद जारी किये गये निर्देशों का सकारात्मक असर हआ है और सीमा पर पूरी तरह से शांति तथा मैत्री का माहौल है। उन्होंने कहा कि दोनों सेनाओं ने हाल ही में ‘हैंड इन हैंड अभ्यास” किया है। हल्के अंदाज में उन्होंने कहा, “ हमने तो वहां भांगड़ा तक करा दिया है। ” वह दोनों सेनाओं के बीच अभ्यास के दौरान आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम की ओर इशारा कर रहे थे।

चीन की ओर किये गये ढांचागत विकास की भारत से तुलना के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि दोनों ओर के क्षेत्रों में बहुत अंतर है , हमारे यहां काम करने में कहीं ज्यादा दिक्कत है। ल्हासा की ऊंचाई 12 हजार मीटर है तो हमारे क्षेत्रों की ऊंचाई 16000 मीटर है। दुर्गम क्षेत्रों में इस ऊंचाई पर काम करने के लिए पुराने और पारंपरिक तरीके छोडकर प्रौद्योगिकी का सहारा लेना पड़ेगा। सुरंग बनाने के लिए अत्याधुनिक तकनीक पर काम करना होगा।

उन्होंने कहा कि सेना और विशेष रूप से पैदल सेना का आधुनिकीकरण सर्वोच्च प्राथमिकता है। इन्फेंट्री को अत्याधुनिक राइफल, हेलमेट, रेडियो सेट, बुलेट प्रूफ जैकेट, बख्तरबंद वाहन और स्नाइपर राइफलें दी जा रही हैं। स्नाइपर राइफलों की आपूर्ति आगामी 20 जनवरी से शुरू हो जायेगी। सेना प्रमुख ने कहा कि सेना के पुनर्गठन की प्रक्रिया पर तेजी से काम हो रहा है और इस बारे में किये गये अध्ययन पर आधारित रिपोर्ट महीने के अंत तक सरकार को दे दी जायेगी। भविष्य की लड़ाइयों में प्रौद्योगिकी की बढती भूमिका को देखते हुए भी रिपोर्ट में कई पहलुओं को शामिल किया गया है। जवानों के कैडर की समीक्षा पहले ही कर दी गयी है जबकि अधिकारियों के कैडर की समीक्षा पर भी तेजी से काम हो रहा है। कुछ और चीजों पर भी काम हो रहा है।

साभार, ईएनसी टाईम्स

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.