Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

जापान के ओसाका में जी-20 देशों की मीटिंग से अलग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को रूस-भारत-चीन त्रिपक्षीय मंच पर यहां चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ मुलाकात के दौरान आतंकवाद से उत्पन्न वैश्विक चुनौतियों पर प्रकाश डालते हुए इस मसले पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन की आवश्यकता बताई।

पीएम मोदी ने मीटिंग में कहा कि विश्व व्यापार संगठन को मजबूत करने की जरूरत है और संरक्षणवाद एवं आतंकवाद के खिलाफ जंग की जरूरत है। पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया सिर्फ आतंकवाद के खिलाफ निष्क्रिय नहीं रह सकती है क्योंकि इसे लेकर आम सहमति नहीं बनी है। पीएम मोदी ने कहा, ‘मानवता के लिए आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा है। इससे सिर्फ निर्दोष लोगों की जान ही नहीं जाती बल्कि आर्थिक विकास बाधित होती है और सामाजिक स्थिरता भी प्रभावित होती है।

इसके बाद एक बार फिर रूस, चीन और भारत की मीटिंग में पीएम मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और शी चिनफिंग से आतंकवाद के खिलाफ ग्लोबल कॉन्फ्रेंस की मांग की। पीएम मोदी ने कहा, ‘आज मैं तीन प्रमुख चुनौतियों पर फोकस करूंगा। पहला अस्थिरता और ग्लोबल इकॉनमी में कमजोरी है। एकपक्षीयता और प्रतिस्पर्धा के चलते वैश्विक व्यापार व्यवस्था के नियम प्रभावित हुए हैं।’

इसके अलावा उन्होंने दूसरा विषय स्थायी और समावेशी विकास को बताया। उन्होंने कहा कि तेजी से बदलती तकनीकों और क्लाइमेट चेंज के बीच संतुलन साधना होगा। उन्होंने कहा कि विकास का फायदा तभी है, जब यह गैर-बराबरी को कम करे और सशक्तीकरण में योगदान दे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.