Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

केन्द्रीय मानव संसाधान मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कांग्रेस सरकार के हर रक्षा सौदे में बिचौलिया थे जबकि राफेल सौदे में कोई बिचौलिया नहीं था इसलिये इसे रोका गया था। जावड़ेकर ने आज यहां पत्रकारों को बताया बोफर्स तोप सौदे में क्रोत्जी, हैलीकॉप्टर सौदे में मिशेल और सबमरीन सौदे में वर्मा बिचोलिया थे लेकिन वर्ष 2012 में राफेल का सौदा किया था और उसे इसलिये रोका गया था कि तब तक उसमें कोई बिचौलिया नहीं था। उन्होंने कांग्रेस से प्रश्न किया कि राफेल सौदा को पूरा क्यों नहीं किया और क्यों रोका गया। अगर उस समय पूरा कर दिया होता तो आज तक विमान भी आ गये होते।

उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को कहा कि वह उल्टा चोर कोतवाल को डांट रहे हैं। केन्द्र सरकार के पिछले साढे चार वर्षो के कार्यकाल में एक भी भष्टाचार का आरोप नहीं लगा हैं इसलिए कांग्रेस अध्यक्ष तोड़ मरोड़ कर बार बार राफेल का मुद्दा उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को सपने में भी राफेल ही दिखाई देता हैं।

केन्द्रीय मानव संसाधान मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि राफेल सौदा सरकार से सरकार का समझौता हैं इसमें कोई बिचौलिया नहीं हैं। भारत सरकार का चेक सीधा फ्रांस सरकार को जाएगा अर्थात डिसोल्ट कम्पनी को भेजा जायेगा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को लगता है कि एक झूठ को सौ बार बोलगें तो जनता सच मान लेगी लेकिन लोग बहुत समझदार हैं और झूठ का खेल ज्यादा नहीं चलेगा।

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि राहुल गांधी ने नया आरोप लगाया कि राफेल की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) करने वाली थी इसलिए सीबीआई अधिकारियों के तबादले हो गये। उन्होंने कहा कि सीबीआई के डायरेक्टर को निकाला नही हैं वह आज भी डायरेक्टर हैं। उनको छुट्टी पर भेजा है क्योंकि दोनों नबर वन एवं नबर टू के अधिकारी अगर आपस में एक दूसरे पर मुकदमा करेगें, एक दूसरे के खिलाफ जांच बैठायेगें और कल एक दूसरे के खिलाफ गिरफ्तार करायेगें, ऐसे थोडा ही चलता हैं, इसलिये दोनों को छुट्टी पर भेज दिया हैं।

उन्होंने कहा कि सभी कार्रवाई नियमानुसार की हैं, केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त ने जो बताया है वह किया है। उच्चतम न्यायालय ने भी सरकार का आदेश निरस्त नहीं किया हैं।  उनहोंने कहा कि यह कांग्रेस की आदत हैं। उन्होंने कहा कि उनका श्री गांधी से प्रश्न है कि सीबीआई के बारे में कुछ भी बताने से पहले यह बताओं कि कांग्रेस के कानून मंत्री के दफ्तर में सीबीआई कोल खदान रिपोर्ट क्यों बदला गया वह जवाब दे। उन्होंने कहा कि कोयला मंत्रालय का रिपोर्ट कानून मंत्री के दफ्तर में बुलाकर बदलाया गया।

जावड़ेकर ने कहा कि कोयला घोटाला उन्होंने स्वयं ने और हंसराज ने उजागर किया था और वर्तमान में दोनो केन्द्र सरकार में मंत्री हैं। सीबीआई ने न्यायालय में दाखिल किया कि दस मुकदमे बंद किये जाये जो न्यायाधीश ने पुछा कि इसकी शिकायत किसने की थी, तो जज को बताया गया कि प्रकाश जावडेकर और हंसराज की शिकायत हैं।

उन्होंने कहा कि उन्होंने स्वयं एवं हंसराज ने सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट दाखिल करने के विरोध में न्यायालय में शपथ पत्र दाखिल किया हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा कभी सुना हैं कि केंन्द्रीय मंत्री होकर किसी मंत्री ने सीबीआई के खिलाफ शपथपत्र दाखिल किया हैं।  राजस्थान में विधानसभा चुनाव में भाजपा की सूची के संबंध में उन्होंने कहा कि 12 नवम्बर को नामांकन दाखिल करने से पहले ही भाजपा की प्रत्याशियों की सूचि जारी हो जायेगी।

-साभार,ईएनसी टाईम्स

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.