Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

देश का दिल कहे जाने वाले राज्य मध्य प्रदेश शुजालपुर में एक बार फिर से रेल हादसा हुआ है। इस बार भोपाल से उज्जैन जा रही एक पैंसेंजर ट्रेन नंबर 59320 में अजानक एक जोरदार धमाका हो गया। मंगलवार सुबह कालापीपल में जबड़ी स्टेशन के पास भोपाल-रतलाम पैंसेंजर ट्रेन के एक डिब्बे में धमाके की वजह से आग लग गई। धमाका इतना जोरदार था कि ट्रेन के तीन डिब्बे पटरी से उतर गए। इस हादसे में आधा दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर रेलवे अधिकारियों समेत पुलिस और एंबुलेंस की टीम पहुंची और घायलों को कालापीपल अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया। गंभीर रूप से हुए घायलों को इलाज के लिए भोपाल भेजा गया।

ट्रेन हादसों में घायल हुए लोगों की सूची:

नाम पिता का नाम उम्र घर
भारती गणपत यादव 30 वर्ष सीहोर
दुर्गेश गंगाराम 25 वर्ष पचोर
अमृतलाल रामलाल साहू 45 वर्ष पचोर
जिया सौरभ कुशवाह (पति) 27 वर्ष इमलीपुरा,सिहोर
पुष्पा गुलाब सिंह (पति) 45 वर्ष इमलीपुरा,सिहोर
सय्यद हसन 55 वर्ष सारांगपुर
बाबूलाल हरिप्रसाद मालवीय 45 वर्ष पिपलिया
नेहा संतोष यादव 15 वर्ष भोपाल
शांति गोंदालाल 35 वर्ष सीहोर

इन सभी घायलों में से भारती और सैय्यद की हालत गंभीर होने की वजह से उन्हें भोपाल रेफर कर दिया गया है। बाकी घायलों का इलाज कालापीपल अस्पताल में किया जा रहा है। घटना स्थल पर पहुंची पुलिस प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार यह घटना मोबाइल फोन में धमाका होने की वजह से हुआ, लेकिन अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। इस धमाके के पीछे सिमी के हाने की आशंका जताई जा रही है। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने इस घटना के जांच के आदेश दे दिए हैं।

गौरतलब है कि पिछले 90 दिनों में देश भर में अनेकों रेल हादसें हुए हैं जिनमें सैकड़ों लोगों की जान गई और कई घायल हो गए। हादसा होने के बाद सरकार हमेशा की तरह मुआवजा और जांच के आदेश देती है पर क्या मुआवजों और जांच के आदेशों से किसी की जान या स्वास्थ्य अवस्था वापस आ सकती है? पिछले हादसों की शुरुआती जांच में पता चला था कि कानपुर रेल हादसों में आईएसआई के आतंकियों का हाथ था और आज के हादसे में भी सिमी का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है। सवाल अभी भी वही है कि आखिर कब थमेंगे रेल हादसे?

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.