Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित ने लोकसभा चुनाव से पहले बड़ा बयान दिया है। शीला दीक्षित ने कहा कि आतंक के खिलाफ पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का रुख नरेंद्र मोदी जितना कड़ा नहीं था।

शीला दीक्षित ने गुरुवार को स्वीकार किया कि 26/11 के मुंबई आतंकी हमलों के बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की ‘प्रतिक्रिया’, पुलवामा आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह ‘मजबूत और दृढ़ नहीं’ थी।

हालांकि इसके साथ ही शीला दीक्षित ने यह भी कहा है कि नरेंद्र मोदी के ज्यादातर काम राजनीति से प्रेरित होने के साथ ही राजनीतिक लाभ उठाने के लिए होते हैं। इस बयान के सामने आने के बाद शीला दीक्षित ने सफाई भी दी है। उन्होंने कहा कि अगर मेरे बयान को किसी दूसरी तरह पेश किया जा रहा है तो मैं कुछ नहीं कह सकती।

शीला दीक्षित ने एक इंटरव्‍यू के दौरान कहा, ‘देखिए, मैं इस बात से सहमत हूं कि मनमोहन सिंह उतने सख्‍त नहीं थे, जितने वह (मोदी) हैं, लेकिन मुझे लगता है कि वह ये सब राजनीति से प्रेरित होकर कर रहे हैं।’ शीला दीक्षित ने यह बात भारतीय वायुसेना द्वारा पुलवामा आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी को आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद के बालाकोट स्थित शिविरों पर की गई एयर स्‍ट्राइक के सवाल पर कही।

सिर्फ यही बयान नहीं आज शीला दीक्षित अपने एक और बयान को लेकर चर्चा में रहीं। दरअसल आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस के दिल्ली प्रभारी पीसी चाको वॉयस मैसेज से दिल्ली के कार्यकर्ताओं से रायशुमारी कर रहे हैं कि आप के साथ पार्टी का गठबंधन होना चाहिए या नहीं।

इसी वायरल ऑडियो के बारे में शीला दीक्षित का कहना है कि वह इस मैसेज के बारे में कुछ नहीं जानती और इस मसले पर उनकी राय नहीं ली गई है। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि मुझसे बिना पूछे ये सर्वे कैसे हो सकता है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.