Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

दक्षिण कश्मीर के शोपियां में पुलिस थाने पर हुए हमले में आतंकियों के बुर्का पहनकर हमला करने का खुलासा हुआ है। यह जानकारी से सुरक्षाबलों के ले चिंताजनक है, क्योंकि पिछली कई घटनाओं में आतंकियों ने सर्च ऑपरेशन्स और काफिले पर हमले के दौरान इसका सहारा लिया। बता दें कि रविवार को पुलिस थाने में हमला कर आतंकियों ने एक पुलिसकर्मी की हत्या कर दी थी और उसकी राइफल छीन ले गए थे।

अधिकारियों की मानें तो बीते करीब एक साल में एक दर्जन से ज्यादा ऐसी घटनाओं की पुष्टि हुई है, जिनमें आतंकियों ने वारदात को अंजाम देने के लिए बुर्का पहना था। हालांकि ऐसी घटनाओं के वास्तविक आंकड़े इससे भी अधिक हो सकते हैं। ऐसे आतंकियों से निपटने के लिए सुरक्षा बल सर्च ऑपरेशन्स के दौरान महिलाकर्मियों को साथ लेने पर विचार कर रही हैं।

एक अधिकारी ने कहा, ‘यह देखा गया है कि सर्च ऑपरेशन्स और आतंकियों की घेरेबंदी के दौरान बहुत से स्थानीय लोग और खासतौर पर महिलाएं फ्रंट पर आ गईं। इसके चलते भ्रम पैदा हुआ और उसका फायदा उठाकर आतंकी मौके से भागने में कामयाब रहे।’ एक घटना के बारे में बताते हुए अधिकारी ने कहा कि इस साल रिपब्लिक डे के मौके पर मुठभेड़ के दौरान दो महिलाओं को कन्फ्यूजन के चलते गोलियां लग गई थीं। तब सुरक्षा बल हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकियों को पकड़ने की कोशिश में थे। इन दोनों आतंकियों को मार गिराया गया था।

इसके बाद फरवरी में भी बुर्काधारी आतंकियों ने एक वारदात को अंजाम दिया था। लश्कर के डेप्युटी कमांडर अबू हंजुल्लाह उर्फ नावेद जट को बुर्काधारी आतंकी अस्पताल में ही हथियार दे गए थे, जिसके बाद उसने दो पुलिसकर्मियों को गोली मार दी और उसके बाद 4 अन्य लोगों के साथ फरार हो गए।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.