Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

कुछ दिनों पहले ट्विटर पर डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को लेकर एक ट्वीट किया था जिसमें देखा जा सकता था कि अमेरिका पाकिस्तान को लेकर फिर उदारवादी रवैया अपनाने की सोच रहा है। ऐसे में अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन का ताजा बयान भारत के लिए कुछ फायदेमंद हो सकता है।  अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरस ने कहा है कि अमेरिका अनिश्चितता और चिंता के इस दौर में विश्व मंच पर भारत का भरोसेमंद साझेदार है। इसी के साथ उन्होंने पाकि‍स्तान और चीन की खबर भी ली।

अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कहा चीन का बर्ताव सही नहीं हैं और चीन के कदम अंतरराष्ट्रीय कानूनों, नियमों के लिए खतरा बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि ‘‘भारत के साथ उभर रहे चीन ने बहुत कम जिम्मेदाराना ढंग से बर्ताव किया है, कई बार उसने अंतरराष्ट्रीय, सिद्धांत आधारित सीमा को धता बताया जबकि जबकि भारत जैसे देश एक ऐसे ढांचे के तहत बतार्व करते हैं जो दूसरे देशों की संप्रभुता की रक्षा करता है। उन्होंने कहा, ‘‘दक्षिण चीन सागर में चीन के भड़काऊ कृत्य से सीधे अंतरराष्ट्रीय कानून और सिद्धांतों को चुनौती मिली जबकि अमेरिका और भारत दोनों ही उसके पक्ष में खड़े रहते हैं।’’ टिलरसन ने कहा कि यह सही समय है जब अमेरिका भारत के साथ अपने रिश्ते मजबूत करे। भारत की तारीफ करते हुए रेक्स ने कहा कि भारत का युवा होना, सकारात्मक होना, ताकतवर लोकतंत्र और विश्व में भारत के बढ़ते कद की वजह से अमेरिका को भारत से दोस्ती और ज्यादा बढ़ानी चाहिए।
उन्होंने कहा कि अमेरिका ने रक्षा के क्षेत्र में भारत को कई प्रस्तावों की पेशकश की है जो द्विपक्षीय वाणिज्यिक एवं रक्षा सहयोग के लिए संभावित ‘गेमचेंजर’ हो सकता है. अमेरिका के प्रस्तावों में मानवरहित विमान, विमान वाहक प्रौद्योगिकी, एफ-18 और एफ -16 आदि शामिल हैं। वहीं पाकिस्तान को आड़े हाथों लेते हुए टिलरसन ने कहा कि अमेरिका को उम्मीद है कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा ताकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उसकी स्थिति सुधरे और इलाके में शांति आए। उन्होंने चीन के साथ रिश्ते सुधारने की वकालत भी की, लेकिन चेतावनी भी दी कि ऐसा नियम कानूनों के प्रति चीन की अनदेखी के रहते हुए नहीं होगा। बता दें कि अगले हफ्ते अमेरिकी विदेश मंत्री भारत आएंगे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.