Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

आजकल लगभग सभी फ़ास्ट फ़ूड के शौक़ीन हैं। फस्ट फ़ूड सबका बेस्ट फ्रेंड है। लेकिन यह मानना थोडा मुश्किल है कि फ़ास्ट फ़ूड जैसा बेस्ट फ्रेंड महिलाओं से उनके जीवन की सबसे बड़ी ख़ुशी छीन सकता है। जी हां, फास्ट फूड खाने वाली महिलाएं जरा गौर फरमाएं। एडिलेड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता ब्रिटेन, आयरलैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की 5,598 गर्भवती महिलाओं की डाइट-हिस्ट्री का विश्लेषण करने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि पिज्जा-बर्गर का बहुत अधिक सेवन महिलाओं से मां बनने की खुशी छीन सकता है।

उन्होंने पाया कि भूख शांत करने के लिए हफ्ते में चार बार फास्टफूड का सहारा लेने वाली 39 प्रतिशत महिलाओं को गर्भधारण में औसतन एक माह अधिक समय लगा। वहीं, 8 प्रतिशत को तमाम कोशिशों के बावजूद प्रेग्नेंट होने के लिए लगभग एक साल ज्यादा इंतजार करना पड़ा। इनमें से ज्यादातर महिलाएं प्रजनन संबंधी उपचार से भी गुजरीं। शोधकर्ताओं ने यह भी बताया कि फास्टफूड की लत बांझपन का खतरा 8 से बढ़ाकर 16 प्रतिशत तक कर देती है। उन्होंने परिवार बढ़ाने की कोशिशों में जुटी महिलाओं को मीठा कम खाने की भी सलाह दी।

मुख्य शोधकर्ता मेलेनी मैकग्राइस के मुताबिक फास्टफूड सैचुरेटेड फैट, सोडियम और शक्कर से लैस होते हैं। शरीर में इन रसायनों की अधिकता गर्भधारण में सहायक ‘ऊसाइट’ कोशिकाओं की मात्रा घटाती है। अध्ययन में शोधकर्ताओं ने गर्भधारण की संभावनाओं पर फल, हरी सब्जियों और अंडा-मछली से भरपूर आहार का भी मूल्यांकन किया। इस दौरान पता चला कि फल संतान सुख हासिल करने की उम्मीदें बढ़ाते हैं। दिन भर में फल की तीन खुराक लेने वाली महिलाओं में गर्भ जल्दी ठहरता है। वहीं, हरी सब्जियों और अंडे का गर्भधारण की संभावनाओं पर कोई खास असर नहीं पड़ता। अध्ययन के नतीजे ‘जर्नल ह्यूमन रिप्रोडक्शन’ के हालिया अंक में प्रकाशित किए गए हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.