Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

बांधनी साड़ी गुजरात व राजस्थान की डाई तकनीक है, जो आजकल पूरी दुनिया में बेहद प्रचलित है। बांधनी कला भारत में प्रचलित बांधकर अथवा गांठ लगाकर रंगाई का तरीक़ा है। रेशमी अथवा सूती कपड़े के भागों को रंग के कुंड में डालने के पूर्व मोमयुक्त धागे से कसकर बांध दिया जाता है। बाद में धागे खोले जाने पर बंधे हुए भाग रंगहीन रह जाते हैं।

यह तकनीक भारत के बहुत से भागों में प्रयोग की जाती है, लेकिन गुजरात व राजस्थान में यह बहुत लंबे समय से प्रयोग में रही है और आज भी राज्य इस तकनीक के बेहतरीन काम के लिए जाने जाते हैं। इस साड़ी में कलरफुल बेस पर बिंदियों वाला काम किया जाता है। देखिये… भारत की प्रसिद्ध बांधनी साड़ी के कुछ अद्भुत और क्लासी डिजाइंस।

इस तकनीक के सुरक्षित नमूने 18वीं सदी से पहले के नहीं हैं, जिससे इसके प्रारंभिक इतिहास का पता लगाना मुश्किल हो गया है। यह साड़ी लगभग हर मैटेरियल में बनती है और सबको खूब पसंद आती है।

बांधनी एक श्रमसाध्य प्रक्रिया है और यह काम बहुधा युवा लड़कियों द्वारा किया जाता है, जो कपड़े पर निपुणता से कार्य करने के लिए लंबे नाखून रखती हैं। इसमें कपड़े को कई स्तरों पर मोड़ना, बांधना और रंगना शामिल है। अंतिम परिणाम लाल या नीले रंग की पृष्ठभूमि पर सफ़ेद अथवा पीली बिंदियों वाला वस्त्र होता है, ज्यामितीय आकृतियाँ सर्वाधिक लोकप्रिय हैं, लेकिन पशुओं, मानवीय आकृतियों, फूलों तथा रासलीला आदि दृश्यों को भी कई बार शामिल किया गया है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.