Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

कल तक मोदी और अमित शाह पर स्वतंत्र पत्रकारिता का गला घोंटने वाली कांग्रेस पार्टी पर एक प्रमुख मीडिया घराने ने ऐसे ही आरोप लगाए हैं। अंग्रेजी न्यूज़ चैनल टाइम्स नाउ ने कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाए हैं कि उसे पार्टी की प्रेस कॉन्फ्रेंस अटेंड करने से जबरन रोका गया। टाइम्स नाउ का कहना है कि हमने कांग्रेस अध्यक्ष रॉबर्ट वाड्रा के हथियार कारोबारी संजय भंडारी के साथ रिश्तों का खुलासा किया जिसके चलते हमारे साथ कांग्रेस की तरफ से ऐसा व्यवहार किया गया। यह सरासर पत्रकारिता के उसूलों के खिलाफ है।

दरअसल कर्नाटका में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कर्नाटका प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी। बेंगलुरू में आयोजित इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को अटेंड करने जब टाइम्स नाउ के पत्रकार पहुंचे तो उन्हें कॉन्फ्रेंस हॉल में घुसने ही नहीं दिया गया। टाइम्स नाउ ने इस घटना का वीडियो भी जारी किया है। वीडियो में दिख रहा है कि कांग्रेस दफ्तर के लोग टाइम्स नाउ के पत्रकारों को वहां से जाने के लिए कह रहे हैं। टाइम्स नाउ के पत्रकारों ने कहा कि हमें इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए इनवाइट किया गया था। लेकिन आज हमें यहां से भगाया जा रहा है। चैनल का आरोप है कि हमने कल ही रॉबर्ट वाड्रा के संजय भंडारी के साथ रिश्तों का खुलासा किया था जिस कारण हमें प्रेस कॉन्फ्रेंस से कांग्रेस ने बायकॉट किया है।

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के हथियार डीलर संजय भंडारी से कथित तौर पर संबंध पर रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने निशाना साधा था। उन्होंने कहा कि आजकल सोशल मीडिया पर खूब बोलने वाले राहुल गांधी इस मुद्दे पर चुप क्यों हैं। कांग्रेस लीडरशीप भी इसका कोई जवाब नहीं दे रही है। इससे यह साफ होता है कि वे आरोप को स्वीकार कर रहे हैं। भाजपा की नेता स्मृति ईरानी ने भी ट्वीट कर यह संकेत दे दिए हैं कि बीजेपी इस मुद्दे को ऐसे ही हाथों से नहीं जाने देने वाली।

इससे पहले हम आपको बता दें टाइम्स नाउ ने दावा किया है कि हथियार कारोबारी संजय भंडारी ने रॉबर्ट वाड्रा के लिए हवाईजहाज के टिकट आरक्षित कराए थे। हालांकि टाइम्स नाउ ये नहीं पता कर सका कि वाड्रा ने इन टिकट पर यात्रा की थी या नहीं। टाइम्स नाउ के अनुसार उसने वाड्रा को इस मामले से जुड़े सवाल भेजे हैं जिनका रिपोर्ट प्रकाशित करने तक जवाब नहीं आया था। उन्होंने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए से सीधे उत्तर ना दे कर कुछ संदेश देने की कोशिश की थी।

वाड्रा पर भंडारी से संबंधों के आरोप पहले भी लगे हैं लेकिन वो भंडारी से किसी तरह का वित्तीय संबंध होने से इनकार करते रहे हैं। चैनल ने दावा किया है कि उसके पास इस बात के दस्तावेजी सबूत हैं कि वाड्रा और भंडारी एक दूसरे से संपर्क में रहे हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.