Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी ने एसपी-बीएसपी और आरएलडी के लिए 7 सीटों से उम्मीदवार नहीं उतारने का ऐलान किया। यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा कि फासीवादी ताकतों को हराने के लिए ये फैसला लिया गया है।

राज बब्बर ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा मैनपुरी, कन्नौज, फिरोजाबाद, अखिलेश यादव की सीट (अगर चुनाव लड़ते हैं तो), मायावती की सीट (अगर चुनाव लड़ती हैं तो), अजित सिंह और जयंत चौधरी की सीट पर प्रत्याशी नहीं उतारेगी। उन्होंने कहा कि कृष्णा पटेल की अपना दल को गोंडा और पीलीभीत की सीट दी गई है। इससे पहले सपा-बसपा गठबंधन ने कांग्रेस के लिए अमेठी रायबरेली की सीट पर उम्मीदवार ना उतारने का फैसला लिया था।

इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की दूसरी सहयोगी पार्टी महान दल के साथ भी सीट समझौते की बात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने दोहराई। राज बब्बर ने कहा, ‘हमने महान दल के साथ पहले ही बात की है। उनका कहना है कि उन्हें जो भी सीट कांग्रेस देगी, उससे आपत्ति नहीं है। वह विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा है कि वे हमारे निशान पर चुनाव लड़ेंगे, हम इस पर फैसला ले रहे हैं।’

बता दें इस लोकसभा चुनाव में यूपी फतह करने का सपना लिए राजनीतिक पार्टियों ने एक से एक दिग्गजों को मैदान में उतारा है। इसी कड़ी में कांग्रेस ने अब तक यूपी के लिए 27 उम्मीदवारों का एलान किया है। कांग्रेस ने प्रदेश की सभी 80 सीटों पर अकेले अपने दम पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। कांग्रेस की नवनियुक्त महासचिव प्रियंका गांधी लगातार पार्टी को मजबूती देने में लगी हुई हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों का बंटवारा प्रदेश के दोनों प्रभारियों के बीच कर चुके हैं। यूपी ईस्ट प्रभारी प्रियंका गांधी को 41 लोकसभा सीटों का प्रभार और यूपी वेस्ट प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया को 39 लोकसभा सीटों की जिम्मेदारी दी गई है। कांग्रेस पार्टी की महासचिव बनने के बाद से ही प्रियंका गांधी संगठन को मजबूत करने में जुटी हैं। इसके लिए वह उत्तर प्रदेश में कई चरणों की बैठक कर चुकी हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.