Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वाराणसी में रोड शो कर रहे है इस बीच खबर है कि 1 मई को वह अयोध्या जाएंगे। पीएम वहां एक चुनावी रैली को भी संबोधित करेंगे। बता दें पिछले पांच साल में ये पहला मौंका है जब वह अयोध्या का दौरा करेंगे। ऐसे में उनके अयोध्या दौरे के कार्यक्रम को अलग-अलग नजरिए से देखा जा रहा है।

बीजेपी के लिए राममंदिर चुनावी मुद्दा रहा है। साधु-संतों की भी मांग रही है कि मोदी सरकार को जल्द से जल्द मंदिर बनाना चाहिए, लेकिन सरकार कोर्ट के फैसले का तर्क दे रही। पिछले पांच साल में कई बार ऐसा मौका आया है जब साधु-संतों ने मांग की है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक बार जरूर अयोध्या आना चाहिए। लेकिन पांच साल बाद अब ये मौका आया है जब नरेंद्र मोदी बतौर प्रधानमंत्री पहली बार राम की नगरी अयोध्या में होंगे।

ये भी माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण की वोटिंग से पहले पीएम के इस दौरे से बीजेपी को आस-पास की सीटों पर फायदा मिल सकता है। साथ ही इसे 6 मई को मतदान से पहले माहौल अपने पक्ष में करने के रूप में भी देखा जा रहा है। 6 मई को फैजाबाद सीट के अलावा धौरहरा, सीतापुर, मोहनलालगंज, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, बांदा, फतेहपुर, कौशाम्बी, बाराबंकी, बहराइच, कैसरगंज और गोंडा लोकसभा सीटों पर भी मतदान है।

गौरतलब है 2017 में जब उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार आई तो राम भक्तों में उम्मीद जगी थी, कि अब जब केंद्र-राज्य दोनों में पूर्ण बहुमत की सरकार है तो मंदिर मसले का हल जरूर निकलेगा। लेकिन, मामला सुप्रीम कोर्ट में होने के कारण सरकार इस पर कुछ नहीं कर सकी। हालांकि, योगी सरकार ने अयोध्या को पिछले दो साल में महत्व दिया है। योगी अयोध्या में भव्य तरीके से दिवाली मनाते रहे हैं, इस बार तो साउथ कोरिया की प्रथम महिला भी दिवाली के अवसर पर अयोध्या में थीं। इसके अलावा यूपी सरकार ने अयोध्या के लिए बड़ा बजट जारी किया है, भगवान राम की मूर्ति लगाने का वादा किया है।

बता दें अयोध्या मामले की सुनवाई फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। भव्य राम मंदिर निर्माण की साधु-संतों की मांग के बीच लंबे अरसे से यह मामला अदालती कार्यवाही में उलझा हुआ है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने सभी पक्षों से बातचीत के जरिए मामले को सुलझाने के लिए मध्यस्थों की एक कमिटी बनाई थी। अगर मध्यस्थता से मामला नहीं सुलझता है तो सुप्रीम कोर्ट मामले में अंतिम निर्णय देगा।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.