Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारतीय क्रिकेट टीम को उन्नीस साल बाद 2004 में पाकिस्तान दौरे पर जाने की मंजूरी देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की वह पंक्ति सौरव गांगुली की अगुवाई वाली टीम के हर सदस्य के जेहन में चस्पा हो गई थी कि ‘खेल ही नहीं, दिल भी जीतकर आइये।’

प्रधानमंत्री के रुप में अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल को भारत और पाकिस्तान के आपसी संबंधों में सुधार के दौर के रुप में भी जाना जाता है। 2004 में 19 साल बाद भारतीय टीम को पाकिस्तान की धरती पर खेलने का मौका मिला था तो सिर्फ वाजपेयी के कारण। वाजपेयी दोनों देशों के संबंधों के सुधार के लिए क्रिकेट को एक माध्यम बनाना चाहते थे। वाजपेयी की पहल पर हीं बीसीसीआई को भारतीय टीम पाकिस्तान भेजने की अनुमति मिली।

सौरव गांगुली के नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम पाकिस्तान दौरे पर गई उस टीम में सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, अनिल कुंबले, राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण जैसे दिग्गज खिलाड़ी थे। टीम के रवाना होने से एक दिन पहले प्रधानमंत्री कार्यालय से संदेश आया कि प्रधानमंत्री टीम के खिलाड़ियों से मिलेंगे। टीम सुबह-सुबह प्रधानमंत्री आवास पहुंच गई। वाजपेयी जी ने हर एक खिलाड़ी से बात की। इस मुलाकात के दौरान वहां नौसेना का बैंड देशक्ति धुन पेश कर रहा था।

वाजपेयी ने उस मुलाकात के दौरान टीम के कप्तान सौरव गांगुली को एक बैट दिया जिस पर एक संदेश लिखा था- खेल ही नहीं दिल भी जीतिए, शुभकामनायें।

वाजपेयी ने टीम को विदाई से पहले एक गीत सुनने के लिये कहा और वह गीत था ‘‘हम होंगे कामयाब एक दिन’’।वाजपेयी ने सौरव से कहा कि यह दौरा बहुत अहम है और मैच के साथ लोगों का दिल भी तुम लोगों को जीतना है।’’यह बात मानों हर खिलाड़ी ने गांठ बांध ली और जमकर खेले। पाकिस्तान को वनडे सीरीज में 3-2 और टेस्ट में 2-1 से हराया। यही वह दौरा था जब वीरेंद्र सहवाग ने मुल्तान टेस्ट में 309 रन की पारी खेली और उनका नाम ही मुल्तान के सुल्तान पड़ गया।

भारतीय टीम के उस दौरे से पहले टीम के तत्कालीन मैनेजर रत्नाकर शेट्टी सुरक्षा इंतजामों का जायजा लेने खुद पाकिस्तान गए थे। लौटकर उन्होंने प्रधानमंत्री को बताया कि कराची और लाहौर में उनकी तस्वीरें लेकर लोग धन्यवाद के बैनर लेकर खडे़ थे। पाकिस्तान में वनडे सीरीज जीतने के बाद वाजपेयी ने रत्नाकर शेट्टी को फोन कर टीम को बधाई दी थी।

ब्यूरो रिपोर्ट, एपीएन

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.