Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मध्यक्रम के बल्लेबाज अंबाटी रायुडू की 90 रन की शानदार पारी और आलराउंडर हार्दिक पांड्या (45 रन और दो विकेट) के बेहतरीन हरफनमौला खेल से भारत ने न्यूजीलैंड को पांचवें और अंतिम वनडे में रविवार को 35 रन से हराकर पांच मैचों की सीरीज 4-1 से जीत ली। भारत ने खराब शुरुआत से उबरते हुए 49.5 ओवर में 252 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया और मेजबान टीम की चुनौती को 44.1 ओवर में 217 रन पर निपटा दिया। भारत ने इस तरह हेमिल्टन में चौथे वनडे में मिली हार का बदला चुकाया और शानदार अंदाज में सीरीज अपने नाम की।


न्यूजीलैंड के अपने वनडे इतिहास में यह चौथा मौका है जब उसने एक सीरीज में चार मैच गंवाए। न्यूजीलैंड ने 1999-2000 में ऑस्ट्रेलिया से छह मैचों की सीरीज 1-4 से, श्रीलंका से 2000-01 में पांच मैचों की सीरीज 1-4 से, 2004-05 में ऑस्ट्रेलिया से पांच मैचों की सीरीज 0-5 से और 2018-19 में भारत से पांच मैचों की सीरीज 1-4 से गंवाई।

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने टॉस जीकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया लेकिन भारत की शुरुआत खौफनाक रही और उसने 10वें ओवर तक अपने चार विकेट मात्र 18 रन पर गंवा दिए। रोहित दो, शिखर धवन छह, शुभमन गिल सात और महेंद्र सिंह धोनी एक रन बनाकर आउट हुए। इन हालात में हेमिल्टन का प्रेत भारतीय टीम पर फिर मंडराता दिखाई दे रहा था जहां भारतीय टीम मात्र 92 रन पर लुढ़क गयी थी। लेकिन इसके बाद रायुडू ने 90, विजय शंकर ने 45, केदार जाधव ने 34 और पांड्या ने 45 रन बनाकर भारत को लड़ने लायक स्कोर तक पहुंचा दिया। भारत ने आखिरी पांच ओवर में चार विकेट गंवाए लेकिन इस दौरान पांड्या के पांच जबरदस्त छक्कों की बदौलत 54 रन भी बटोरे।

रायुडू ने 113 गेंदों पर 90 रन में आठ चौके और चार छक्के लगाए। शंकर ने 64 गेंदों पर 45 रन में चार चौके लगाए। जाधव ने 45 गेंदों पर 34 रन में तीन चौके लगाए। भारत के सात विकेट 203 रन पर गिर चुके थे और यहां भारत को एक अच्छी पारी की जरूरत थी। पांड्या ने मात्र 22 गेंदों पर दो चौके और पांच छक्के उड़ाते हुए 45 रन ठोके और भारत को 252 तक पहुंचाया। पांड्या ने लेग स्पिनर टॉड एस्टल के पारी के 47 वें ओवर में लगातार तीन छक्के मारे। पांड्या ने 48वें ओवर में ट्रेंट बोल्ट और 49वें ओवर में जेम्स नीशम पर भी छक्के मारे। पांड्या ने 49वें ओवर में दो चौके और एक छक्का लगाया और इसी ओवर की आखिरी गेंद पर बोल्ट के शानदार कैच पर आउट हुए। भारत ने अंतिम ओवर में दो विकेट गंवाए और उसकी पारी एक गेंद शेष रहते सिमट गयी।

भारत को शुरुआत में मैट हेनरी ने दो और बोल्ट ने दो विकेट लेकर झकझोरा। भारत का शीर्ष क्रम एक बार फिर स्विंग लेती गेंदों के सामने संघर्ष करता नजर आया। हेनरी ने रोहित और गिल को आउट किया जबकि पिछले मैच में पांच विकेट लेने वाले बोल्ट ने शिखर और धोनी का शिकार किया। रायुडू ने फिर विजय शंकर के साथ पांचवें विकेट के लिए 98 रन की साझेदारी कर पारी को संभालने का काम किया। शंकर रन आउट हुए। रायुडू ने फिर जाधव के साथ छठे विकेट के लिए 74 रन जोड़े। हेनरी ने रायुडू को शतक से वंचित किया और जाधव का विकेट भी लिया। पांड्या ने आतिशी पारी खेलकर भारतीय गेंदबाजों के पास कुछ कर दिखाने का मौका रख दिया। पांड्या ने अपने करियर में पांचवीं बार लगातार तीन छक्के उड़ाए। पांड्या की विस्फोटक पारी से ही भारत 252 तक पहुंच सका और उनकी इस पारी ने ही अंत में मैच में सारा अंतर पैदा किया। हेनरी ने 35 रन पर चार विकेट और बोल्ट ने 39 रन पर तीन विकेट लिए।

लक्ष्य का पीछा करते हुए न्यूजीलैंड की टीम ने अपने तीन विकेट 38 रन पर गंवाए और इसके बाद मेजबान टीम मुकाबले में लौटने के लिए संघर्ष करती रही। तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने दो और पांड्या ने एक विकेट लेकर कीवी टीम को बैकफुट पर धकेल दिया। शमी ने हेनरी निकोल्स (8) और कॉलिन मुनरो (24) को आउट किया। पांड्या ने अटैक पर आने के साथ ही टेलर को पगबाधा कर दिया। टेलर ने एक रन बनाया। टेलर यदि इस फैसले में डीआरएस का इस्तेमाल करते तो बच सकते थे। लेकिन कप्तान केन विलियम्सन के साथ विचार विमर्श करने के बाद वह पवेलियन लौट गए।

विलियम्सन (39) ने विकेट कीपर टॉम लॉथम (37) के साथ चौथे विकेट के लिए 67 रन की साझेदारी की। पार्ट टाइम ऑफ स्पिनर केदार जाधव ने विलियम्सन को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा। लेग स्पिनर युजवेन्द्र चहल ने लॉथम को पगबाधा कर न्यूजीलैंड का पांचवां विकेट 119 के स्कोर पर गिरा दिया। विलियम्सन ने 73 गेंदों की पारी में तीन चौके लगाए जबकि लॉथम ने 49 गेंदों पर तीन चौके लगाए। चहल ने कॉलिन डी ग्रैंडहोम (11) को पगबाधा कर दिया। जेम्स नीशम ने खतरनाक अंदाज में खेलते हुए 32 गेंदों में चार चौकों और दो छक्कों की मदद से 44 रन बनाए। लेकिन विकेटकीपर महेन्द्र सिंह धोनी ने जबर्दस्त सूझबूझ दिखाते हुए नीशम को रन आउट कर दिया। जाधव की नीची रहती गेंद पर नीशम के खिलाफ पगबाधा की जोरदार अपील हुई। नीशम इस बीच क्रीज से बाहर निकल आए थे और धोनी ने विकेट के पीछे गयी गेंद को झपट कर उठाते हुए नीशम को रन आउट कर दिया।

चहल ने टॉड एस्टल (10) को ,पांड्या ने मिशेल सेंटनर (22) को और भुवनेश्वर कुमार ने ट्रेंट बोल्ट को आउट कर कीवी पारी 217 रन पर समेट दी। चहल ने 41 रन पर तीन विकेट, शमी ने 35 रन पर दो विकेट, पांड्या ने 50 रन पर दो विकेट, भुवनेश्वर ने 38 रन पर एक विकेट और जाधव ने 34 रन पर एक विकेट लिया। रायुडू को प्लेयर ऑफ द मैच और शमी को प्लेयर ऑफ द सीरीज का पुरस्कार मिला।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.