Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

नेपाल में लगातार बारिश और उत्तर बिहार की नदियों में अत्यधिक जलस्राव से जहां दरभंगा शहर पर दबाव बढ़ गया है। वहीं बुधवार को मुजफ्फरपुर के बकुची में बागमती का पुराना तटबंध 100 फीट टूट गया है, जिसके कारण बकुची कॉलेज के पास तेज कटाव हो रहा है।

जलस्तर में कमी के बाद भी बागमती कटौझा में लाल निशान से 2.86 मीटर व बेनीबाद में 42 सेमी. ऊपर बह रही है। दरभंगा में बागमती समेत अधवारा समूह की नदियों में पानी बढ़ने से धौंस नदी का पश्चिमी तटबंध कमतौल में दो जगह टूट गया। वहीं जल संसाधन विभाग भी मान रहा है कि आगे खतरा हो सकता है।

उत्तर बिहार के 12 जिलों की 46.83 लाख आबादी बाढ़ की चपेट में है। बाढ़ से अबतक कुल 67 लोगों की मौत हो चुकी है। सीतामढ़ी में 17, अररिया में 12, मधुबनी में 11, शिवहर में 9, पूर्णिया में 7, दरभंगा में 5, किशनगंज में 4 और सुपौल में 2 लोग जान गंवा चुके हैं।

आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार बाढ़ प्रभावित इलाकों में कुल 1116 सामुदायिक किचेन का संचालन किया जा रहा है। विभाग ने खाने की गुणवत्ता तय करने का आदेश दिया है। यहां पूड़ी और तले हुए खाद्य पदार्थ नहीं परोसे जाएंगे।

शिक्षा विभाग ने स्कूलों में बाढ़ से हुई क्षति की रिपोर्ट एक सप्ताह में मांगी है। बिहार शिक्षा परियोजना परिषद के निदेशक संजय सिंह ने बुधवार को सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों और डीपीओ को पत्र भेजा है। बाढ़ प्रभावित स्कूलों के लिए जरूरी निर्देश भी दिए गए हैं।

आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेशवर राय ने कहा कि गंगा के खतरनाक घाटों पर लाल झंडे लगाए जाएंगे। झंडे पर ही आपदा प्रबंधन के इमरजेंसी और टॉल फ्री नंबर रहेंगे।

फिलहाल 1.14 लाख लोगों ने 137 राहत शिविरों में शरण ले रखी है। प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 26 टीमों को राहत और बचाव कार्य में लगाया गया है।

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.