Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार अपने चरम पर पहुंच चुका है। अभी तो पहला चरण भी नहीं हुआ है। ऐसे में दिल्ली के सदर बाजार की उस गली में खूब चहल पहल है जहां अलग अलग दलों के झंडे बैनर बिक रहे हैं। यहां राहुल हो या फिर मोदी सब का रेट एक है। इस गली की दर्जन भर दुकानों में विभिन्न दलों के पोस्टर, कैप और टी-शर्ट बिना किसी काट-छांट के एक साथ रखे गए हैं।

जैसे ही पार्टियां अपने प्रचार के तरीके में कुछ नया प्रयोग कर रही हैं, वैसे ही यहां उन पर नजर गड़ाए बैठे दुकानदार, जनता को आकर्षित करने के लिए अपने आप को ‘अपडेट’ करते रहते हैं । नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पहाड़ी गेट से कुछ ही दूर पर स्थित सदर बाज़ार, थोक बाजार के रुप में जाना जाता है, लेकिन इस चुनावी मौसम में यहां राजनीतिक पार्टियों के पोस्टर और बैनर भी धड़ल्ले से थोक के भाव बेचे जा रहे हैं।

पिछले 32 सालों से यहां दुकान चला रहे राजीव सचान कहते हैं- ‘इस बार लोकसभा चुनाव के लिए खास किस्म की गमछों की खूब मांग है। वो थोड़े ज्यादा फैंसी हैं। पहले वही गमछे 2-3 रुपये के मिलते थे, लेकिन इस बार इनका रेट 15 से 20 है। इसके अलावा कुछ दिल्ली के बाहर से भी आइटम मंगाए गए हैं ।’

राजनीतिक दलों के चुनावी पोस्टरों और बैनरों के बीच ब्रेसलेट, 5 रुपये से 25 रुपये तक मायावती की रिंग्स, प्रियंका गांधी का प्रसिद्ध स्कार्फ भी खूब पसंद किए जा रहे हैं। इनके अलावा नमो ऐप पर मिलने वाली चीजें भी इन दुकानों पर उपलब्ध हैं। जहां ‘नमो अगेन’ वाली कप पहले से ही मार्केट में थी, वहीं अब इस ब्रांड की टी-शर्ट, नोटबुक, पेन और कैप भी आ गए हैं।

‘रोहित भाई झंडेवाले’ पर बैठे सजज्न ने बताया कि इस मार्केट में बेचे जा रहे समान आमतौर पर ‘नमो ऐप’ पर मिलने वाले समानों की तुलना में थोड़े सस्ते हैं। ‘नमो मग’ जहां 120-150 रुपये में मिल रहा, वहीं ‘नमो नोटबुक’ 15-20 रुपये में खरीदे जा सकते हैं। पार्टियों के झंडे और पोस्टरों से सजी कुल 10 से 12 दुकानें हैं, लेकिन इनमें बीजेपी और कांग्रेस का ही बोलबाला ज्यादा दिखाई दे रहा है। संजय बताते हैं, वैसे तो केजरीवाल की टोपी खूब बिकती है। लेकिन बीजेपी और कांग्रेस की तुलना में आप के समर्थक कम ही दिखते हैं।

वैसे बाजार का चक्कर लगाने पर एक बात साफ हो जाती है कि इस बार बजार में बीजेपी और कांग्रेस से अलग हरियाणा के राष्ट्रीय लोक दाल, यूपी की समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी और केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की भी प्रचार सामगियों की खूब मांग है। पिछले तीन लोकसभा चुनावों से प्रचार सामग्री बेच रहे रविंद्र कुमार बताते हैं कि- लगभग सभी पार्टियों के लोग यहां आते हैं, लेकिन बीजेपी टॉप पर है। बीजेपी की चुनावी सभाएं बराबर होती हैं, इसलिए भी लोग यहां बैनर पोस्टर लेने आते रहते हैं।

वहीं दुकान में करीब 100 बैनर का ऑर्डर देने आए एक कांग्रेसी समर्थक चुनावी सरगर्मियों के बारे में बताते हैं कि पिछले एक साल से हलचल थोड़ी कम थी। लेकिन पिछले दिनों शीला दीक्षित द्वारा दिल्ली की कमान संभालने और प्रियंका गांधी को मिली नई जिम्मेदारी के बाद कार्यकर्ताओं के अंदर एक नया जोश आया है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.