Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

उत्तर प्रदेश में 10वीं और 12वीं कक्षाओं की बोर्ड परिक्षाएं 7 फरवरी से शुरू हो चुकी है जो कि 2 मार्च तक चलेंगी। लेकिन चौकाने वाली बात ये है कि करीब 6 लाख स्टूडेंट्स परीक्षा छोड़ चुके हैं। माना जा रहा है कि इस बार शिक्षा विभाग की सख्ती के चलते नकल माफियाओं ने परीक्षा से दूरी बनाई हुई है।

मीडिया में छपी रिपोर्टस के मुताबिक यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव ने बताया, ‘इस साल नेपाल और आसपास के राज्यों से रजिस्ट्रेशन कराने वाले छात्रों की संख्या में भी कमी आई है। ये लोग नकल के चक्कर में यहां आते थे, मगर सख्ती के चलते ऐसे छात्रों की संख्या में भारी कमी आई है।’ उन्होंने कहा, ‘2017 में जहां ऐसे बाहरी छात्रों की संख्या 1.15 लाख थी, वह 2018 में 1.12 लाख हो गई और इस साल 2019 में यह घटकर सिर्फ 6300 रह गई है।’

इस साल कुल 58,06,922 स्टूडेंट्स ने बोर्ड एग्जाम के लिए रजिस्टर करवाया था। इनमें से अकेले 10वीं के 31,95,603 छात्र हैं। एक अधिकारी ने बताया कि परीक्षा छोड़ने वाले ज्यादातर छात्र 10वीं क्लास के ही हैं। पिछले कुछ सालों में नकल के इतिहास को देखते हुए 21 फीसदी एग्जाम सेंटर्स को संवेदनशील या अतिसंवेदनशील घोषित किया गया है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.