Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) जॉन बोल्टन को पद से हटा दिया है। बोल्टन तीसरे एनएसए हैं, जिन्हें ट्रंप ने पद से हटा दिया। ट्रंप ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।


ट्रंप ने ट्वीट कर लिखा, ‘पिछली रात मैंने बोल्टन से कहा कि अब वाइट हाउस में उनकी सेवाओं की जरूरत नहीं है। मैं उनकी कई सलाह से असहमत हूं। लिहाजा मैंने जॉन से इस्तीफा मांगा और उन्होंने मुझे सुबह इसे सौंप दिया। जॉन की सेवाओं के लिए शुक्रिया।’ बोल्टन ऐसे अमेरिकी एनएसए थे, जिन्हें सेना या राष्ट्रीय सुरक्षा का कोई अनुभव नहीं था। ट्रंप ने कहा, मैं अगले हफ्ते तक नए सुरक्षा सलाहकार के नाम का एलान कर दूंगा।


वहीं, जॉन बोल्टन ने भी तुरंत ट्वीट कर बताया कि मैंने पिछली रात इस्तीफा देने की पेशकश की थी और राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि कल बात करते हैं।


जानिए कौन हैं जॉन बोल्टन
बता दें कि 20 नवंबर 1948 को मैरीलैंड के बाल्टीमोर में जन्मे बोल्टन को 9 अप्रैल 2018 को यूएस का 27वां राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बनाया गया था। वह जॉर्ज डब्ल्यू बुश के कार्यकाल में अगस्त 2005 से दिसंबर 2006 तक संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका के राजदूत रह चुके हैं। बोल्टन अमेरिकी अटॉर्नी, राजनीतिक टिप्पणीकार, रिपब्लिकन सलाहकार और पूर्व राजनयिक हैं।

बोल्टन ने येल यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है, जहां से साल 1970 में उन्होंने बीए की डिग्री ली। 1971 से लेकर 1974 तक वह येल लॉ स्कूल में रहे। जॉन बोल्टन मुस्लिम विरोधी गैस्टस्टोन इंस्टीट्यूट के अलावा कई रूढ़िवादी संगठनों के साथ जुड़े रहे हैं, जहां उन्होंने मार्च 2018 तक संगठन अध्यक्ष के तौर पर काम किया. साथ ही वह न्यू अमेरिकन सेंचुरी के प्रोजेक्ट डायरेक्टर भी रहे, जो इराक के साथ युद्ध करने के हक में था।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.