Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

घूम-घूमकर कश्मीर पर झूठ फैला रहे पाकिस्तान की कलई आखिरकार पूरी दुनिया के सामने खुल गई है। अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के वित्तपोषण की निगरानी करने वाली संस्था ‘फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने पाकिस्तान को डाउनग्रेड कर ‘ब्लैक’ लिस्ट में डाल दिया है। FATF ने आतंकियों की आर्थिक मदद और मनी लॉन्ड्रिंग को रोकने में असफल रहने पर ब्लैकक लिस्ट में डाला है।

इससे पहले FATF ने पाकिस्तारन को ग्रे लिस्ट में डाला था। FATF के एशिया प्रशांत ग्रुप ने वैश्विक मानदंडों को पूरा नहीं करने के लिए पाकिस्तान को ब्लैक लिस्टा में डाला। FATF ने पाया कि मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकियों के वित्त पोषण से जुड़े 40 मानदंडों में से 32 को पाकिस्तायन ने पूरा नहीं किया। इसको देखते हुए उसे ब्लैक लिस्ट कर दिया गया है।

ब्लैक लिस्टर होने के बाद अब पाकिस्तान को दुनिया में कर्ज पाना और ज्या दा मुश्किल हो जाएगा। फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF)ने कहा कि पाकिस्तान टेरर फंडिंग पर अपने ऐक्शन प्लान को पूरा करने में विफल रहा है। फ्लोरिडा के ओरलैंडो में आयोजित बैठक के समापन पर जारी एक बयान में FATF ने चिंता व्यक्त की कि न सिर्फ पाकिस्तान जनवरी की समय सीमा के साथ अपनी ऐक्शन प्लान को पूरा करने में विफल रहा है, बल्कि वह मई 2019 तक भी अपनी कार्य योजना को पूरा करने में भी विफल रहा है।

ऐक्शन प्लान में जमात-उद-दावा, फलाही-इंसानियत, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हक्कानी नेटवर्क और अफगान तालिबान जैसे आतंकवादी संगठनों की फंडिंग पर लगाम लगाने जैसे कदम शामिल थे जिन्हें पूरा कर पाने इमरान सरकार नाकाम रही।

FATF की ओर से ब्लैकलिस्ट किए जाने का मतलब होता है कि संबंधित देश मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फाइनैंसिंग के खिलाफ जंग में सहयोग नहीं कर रहा है। ब्लैक लिस्ट में शामिल देश को वर्ल्ड बैंक आईएमएफ, एडीबी, यूरोपियन यूनियन जैसी संस्थाओं से कर्ज मिलना मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा मूडीज, स्टैंडर्ड ऐंड पूअर और फिच जैसी एजेंसियां उसकी रेटिंग भी घटा सकती हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.