Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

जयपुर से दिल्ली के बीच पड़ने वाला गांधीनगर रेलवे स्टेशन वैसे तो बहुत छोटा स्टेशन है, लेकिन इसकी साफ-सफाई और सभी तरह की व्यवस्था की वजह से ये सुर्खियों में बना हुआ है, और अब इसकी धमक यूएन तक पहुंच गई है। दरअसल यह दुनिया का पहला रेलवे स्टेशन है जिसे महिलाओं के द्वारा संचालित किया जाता है। संयुक्त राष्ट्र ने महिलाओं के सशक्तिकरण की दिशा में इसे एक मील का पत्थर बताया है।

संयुक्त राष्ट्र ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो के साथ इस स्टेशन के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए लिखा है कि यहां 40 से अधिक महिला कर्मचारी हैं, जो पुरूषों से अधिक कारगर ढंग से अपनी जिम्मेदारियां निभा रही हैं। इस ट्विटर के बारे में कहना है कि महिलाओं द्वारा स्टेशन का कामकाज संभालने के बाद यहां की सफाई व्यवस्था बेहतर हुई है।

महिलाओं को पुरुषों से बेहतर कर्मी करार देते हुए विडियो में कहा गया है कि एक ऐसे देश में जहां रोजगार में महिलाओं की भागीदारी मात्र 27 प्रतिशत है, महिलाओं द्वारा इस तरह से एक पूरे रेलवे स्टेशन को संभालना अपने आप में एक मील का पत्थर है। इसमें सवाल किया गया है कि क्या अन्य देश भी इसका अनुसरण करेंगे।

टोंक रोड पर जयपुर-दिल्ली लाइन पर स्थित इस स्टेशन से दिनभर में ढेरों रेलगाड़ियां गुजरती हैं और यहां आने वाले और यहां से जाने वाले लोग हरी झंडी दिखाने वाले गार्ड से लेकर टिकट चेकर और सफाई कर्मियों के रूप में महिलाओं को देखकर हैरान भी होते हैं और खुश भी। बता दें गांधीनगर मुख्य लाइन का पहला स्टेशन है, जिसके संचालन की पूरी जिम्मेदारी महिलाएं पूरी कर्मठता से निभा रही हैं।

बिना टिकट रेल में चढ़ने की कोशिश करने वालों की संख्या कम हुई है और कतारें छोटी हो गई हैं। इसके अनुसार यहां तैनात महिला कर्मियों ने एक महीने में 520 लोगों को बिना टिकट ट्रेन में चढ़ने की कोशिश करते हुए पकड़ा, जबकि इसके पिछले बरस उसी महीने में उनके पुरूष समकक्षों ने इस तरह के केवल 64 लोगों को पकड़ा था।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.