Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मालदीव की सियासत में लंबे समय से चल रही उठा-पटक के बाद अब सब कुछ ठीक हो सकता है। 5 महीने पहले निर्वासन से लौटे पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद की पार्टी  मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी (एमडीपी) ने देश में हुए संसदीय चुनाव में प्रचंड जीत हासिल की है। मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी  ने प्रोग्रेसिव पार्टी ऑफ मालदीव को करारा झटका देते हुए 87 सदस्यीय संसद में दो तिहाई से ज्यादा बहुमत हासिल करने में कामयाब हासिल की है। संसदीय चुनाव में नशीद की विरोधी प्रोग्रेसिव पार्टी ऑफ मालदीव (पीपीएम) को केवल 7 सीटें मिली हैं।

करीब दो साल तक निर्वासित रहे नशीद पांच महीने पहले ही देश लौटे हैं। देश में शनिवार को 78 फीसद मतदान हुआ था। आपको बता दें कि 2008 में मालदीव में  नया संविधान लागू हुआ था जिसके बाद पहली बार कोई पार्टी संसद में अकेले दम पर बहुमत हासिल कर रही है।

क्यों निर्वासन पर थे नशीद?

साल 2008 में मालदीव में हुए पहले बहुदलीय चुनाव में मोहम्मद नशीद को राष्ट्रपति के तौर पर चुना गया था।  जिसके बाद साल 2013 में अब्दुल्ला यामीन राष्ट्रपति बने थे। 2012 में नशीद ने राष्ट्रपति रहते हुए एक वरिष्ठ न्यायाधीश को गिरफ्तार करने का आदेश दिया था जिसके बाद नशीद को आंतकवाद का दोषी ठहराते हुए 2015 में 13 साल की सजा सुनायी गयी थी।  लेकिन इसका विरोध सिर्फ मालदीव में ही नहीं बल्की दुनिया में भी हुआ। हालांकि तत्कालिन  राष्ट्रपति यामीन ने विरोध को दरकिनार करते हुए यामीन ने उन्हें औऱ विरोध करने वालों को जल में भेज दिया था। नशीद के हालात तब से बदले जब 28 सितंबर 2018 को उनकी पार्टी के उम्मीदवार इब्राहिम मुहम्मद सोलिह ने यामीन को राष्ट्रपति चुनाव में हरा दिया। उनकी जीत के बाद से जेल में बंद कुछ अफसरों को छोड़ा गया।  कुछ को जमानत पर छोड़ा गया है और कुछ लोग निष्कासन से वतन लौटे।

क्या आप जानते है यामीन के हार का कारण

यमीन मनी लॉन्ड्रिंग और गबन के आरोपों का सामना कर रहे हैं। संसदीय चुनाव में नशीद की पार्टी को मिली जीत के पीछे यमीन के कार्यकाल में हुए घपले, भ्रष्टाचार और उनकी सरकार का निरंकुश हो जाना मुख्य कारण है।

नशीद के जीतने के बाद भारत को होगा फायदा

नशीद के जीतने के बाद अब भारत को फायदा होगा। दरअसल नशीद को भारत का समर्थक माना जाता है। जबकि यमीन को चीन का समर्थक माना जाता है। यमीन हमेशा भारत के विरोधी चीन के पाले में खड़े दिखे। यमीन के राष्ट्रपति रहते मालदीव और भारत के रिश्तों खटास आ गई थी।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.