Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

साल 2018 हमसे विदा ले रहा है। हमेशा की तरह यह साल भी कई अच्छी और बुरी यादों के साथ विदा हो रहा है। अंतरर्राष्ट्रीय स्तर पर साल 2018 काफी हंगामेदार रहा। चीन से लेकर जापान और अमेरिका से लेकर रूस तक कई ऐसी खबरें रहीं जिन्होंने सुर्खियां बटोरी। भारत ने भी कई साल 2018 के दौरान कई उपलब्धियां हासिल कीं। तुर्की में सउदी दूतावास में एक पत्रकार की हत्या साल की एक बड़ी सुर्खी बनी। एक नजर डालते हैं साल 2018 के बड़े और अहम अंतरर्राष्ट्रीय घटनाक्रमों पर…

भारत ने अग्नि-I (ए) बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया
भारत ने ओडिशा के तट पर मौजूद अब्दुल कलाम द्वीप से 06 फरवरी 2018 को सुबह 8।30 बजे स्वदेशी तौर पर विकसित अणु-सक्षम अग्नि-आई (ए) बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया। यह परीक्षण भारतीय सेना के सामरिक बल कमांड द्वारा आयोजित किया गया था। भारत के पास मौजूदा समय में अग्नि-I (700 किलोमीटर मारक क्षमता), अग्नि-II (2000 किलोमीटर मारक क्षमता) अग्नि III एवं अग्नि IV (3500 किलोमीटर से अधिक मारक क्षमता) एवं सुपरसोनिक ब्रह्मोस मिसाइलें हैं। इससे पहले भारत ने अग्नि-V का सफलतापूर्वक परीक्षण किया था। यह मिसाइल का चौथा एवं अंतिम परीक्षण बताया गया था।अग्नि-I भारत की पहली बहुउद्देशीय अग्नि सीरीज की मिसाइल है जिसे रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने विकसित किया है। 

साल 2018: बॉक्स-ऑफिस पर इन फिल्मों ने मचाया धमाल, की जबरदस्त कमाई

मालदीव में आपातकाल का ऐलान
इस साल की शुरुआत में मालदीव में आपातकाल का ऐलान हुआ तो दुनिया हैरान रह गई। फरवरी में तत्‍कालीन राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने देश में 15 दिनों के लिए इमरजेंसी का ऐलान कर दिया। सुप्रीम कोर्ट के नौ राजनीतिक बंदियों को रिहा करने का आदेश देने और राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन के इस आदेश को मानने से इनकार करने के बाद बड़ी तादाद में लोगों के सड़कों पर उतरने और भारी राजनीतिक उथलपुथल के बाद मालदीव में इमरजेंसी की घोषणा की गई  ।

बड़े पैमाने पर दुनिया में इसकी आलोचना हुई और अमेरिका समेत कई देशों ने मालदीव से लोकतंत्र की बहाली का अनुरोध किया।।तो  22 मार्च 2018 को यामीन ने देश में आपातकाल के खत्‍म होने का ऐलान किया।  इसके बाद सितंबर में मालदीव में चुनाव हुए और यामीन की जगह इब्राहीम मोहम्मद सोलिह देश के नए राष्ट्रपति बने।

तानाशाह किम जोंग ने इतिहास रचा

नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने 27 अप्रैल को उस समय इतिहास लिखा जब वह बॉर्डर पार करके साउथ कोरिया पहुंचे। किम जोंग उन नॉर्थ कोरिया के पहले ऐसे नेता बने जो छह दशकों में सैन्‍य बॉर्डर पार करके साउथ कोरिया पहुंचे हैं। किम जोंग ने यहां पर दक्षिण कोरिया के राष्‍ट्रपति मून जे इन से वार्ता की और दोनों देश परमाणु कार्यक्रम से जुड़ी अहम वार्ता पर पहुंचे। दोनों के बीच नॉर्थ कोरिया के परमाणु हथियारों पर विस्‍तार से बात हुई।

स्टार्स वेडिंग ईयर रहा साल 2018, सोनम से लेकर ईशा तक इन स्टार्स ने लिए सात फेरे

इस यात्रा के दौरान किम वापस लौटते समय मून को नॉर्थ की तरफ भी लेकर गए और फिर दोनों नेता वापस साउथ कोरिया की तरफ आ गए। नॉर्थ और साउथ कोरिया दोनों देश 20वीं सदी के सबसे भयानक युद्ध के गवाह बने हैं जिसके बाद कोरियाई प्रायद्वीप में बंटवारा हो गया है। इस युद्ध के बाद से ही दोनों देशों में युद्ध की स्थिति है।

अमेरिका ने ईरान पर फिर से नए प्रतिबंध लगाए
अमेरिका ने अगस्त में ईरान पर फिर से नए और एकतरफा प्रतिबंध लगा दिए। इन प्रतिबंधों के साथ ही ईरान पर फिर से वही प्रतिबंध और सजा लागू हो गई जिन्‍हें साल 2015 पूर्व अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में हटा लिया गया था। ओबामा के कार्यकाल में ईरान के साथ परमाणु समझौता हुआ था। इस समझौते को एतिहासिक समझौते की संज्ञा दी जाती है। लेकिन इस वर्ष पहले मई में अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने इस डील को खत्म किया और फिर अगस्‍त में ईरान पर पुराने प्रतिबंधों को फिर से लागू कर दिए गए। जब से ट्रंप ने परमाणु डील को रद्द करने का फैसला किया ईरान की मुद्रा रियाल की कीमत करीब आधी हो गई। ट्रंप जिस समय अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनावों के लिए प्रचार कर रहे थे, उसी समय उन्‍होंने परमाणु डील से अमेरिका को बाहर करने का वादा किया था। इस वर्ष उन्‍होंने अपना यह वादा पूरा किया। ट्रंप ने एक बार फिर से इस डील को ‘खतरनाक’ और ‘एक-पक्षीय’ डील करार दिया था।

जर्मनी में विश्व की पहली हाइड्रोजन इंधन वाली ट्रेन का परीक्षण

जर्मनी में 18 सितंबर 2018 को विश्व की पहली हाइड्रोजन इंधन वाली ट्रेन का सफल ट्रायल किया गया। यह ट्रेन पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल है अर्थात् डीजल इंजन की भांति इससे प्रदूषण नहीं होता। इसको फ्रांस की कंपनी एलस्टॉम (Alstom) ने दो साल की मेहनत के बाद तैयार किया है।विश्व में बढ़ रही प्रदूषण की समस्या के चलते इस ट्रेन का निर्माण किया गया है। उत्तरी जर्मनी में हमबर्ग के पास एक रेलवे लाइन पर इस ट्रेन की का सफल ट्रायल हुआ। इस ट्रेन का नाम कोराडिया आई लिंट (Coradia iLint) रखा गया है। कंपनी द्वारा दावा किया गया है कि यह ट्रेन ज़ीरो एमिशन पैटर्न पर चलती है अर्थात् इससे कार्बन डाइऑक्साइड नहीं निकलती बल्कि इससे भाप उत्पन्न होती है।

साल 2018: दुनिया से हुए विदा, कर गए आंखें नम

जेरूशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्यता

14 मई को इजरायल के जेरूशलम में अमेरिका के दूतावास का उद्घाटन हुआ। इस दूतावास के खुलते ही अमेरिका ने पिछले करीब सात दशकों से चली आ रही एक परंपरा को तोड़ दिया और जेरूशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्‍यता दी डाली। इस कार्यक्रम में अमेरिका के कई टॉप ऑफिशियल्‍स समेत राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की बेटी और ट्रंप प्रशासन में सर्वोच्‍च स्‍थान रखने वाली इवांका ट्रंप भी शामिल हुईं। इवांका के पति जरार्ड कश्‍नर यहूदी हैं और उनका परिवार इजरायल का ही रहने वाला है। इवांका के साथ जेरार्ड भी जेरूशलम पहुंच थे।

पाकिस्तान में इमरान खान

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्‍तान में 25 जुलाई को संसदीय चुनाव हुए। इन चुनावों में पाकिस्‍तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) को विशाल जीत मिली और इसके साथ ही सत्ता पार्टी के मुखिया इमरान खान के हाथ में आई।।। इमरान खान ने साल 1996 में अपना कदम राजनीति में रखा। 22 वर्षों के अपने राजनीतिक संघर्षों के बाद उन्होंने 18 अगस्त 2018 को देश की ‘कप्तानी’ संभाली। ।। इमरान ने चुनाव जीतने के बाद अपने साथी पूर्व क्रिकेटरों सुनील गावस्कर, कपिल देव और नवजोत सिद्धू को निमंत्रण भेजा था।।लेकिन नवजोत को छोड़ उनके बाकी के दो दोस्त उनके शपथ ग्रहण से दूर रहे।।।इमरान खान ने जब साल 1996 में अपनी पार्टी पीटीआई की स्‍थापना की थी और साल 1997 में उन्‍होंने पहली सीट जीती, तब से ही उनके दिल में पाकिस्‍तान की पीएम बनने की तमन्‍ना जोर पकड़ रही थी।। संसद में अपने पहले भाषण में इमरान ने ‘पाकिस्तान को लूटने वालों’ के खिलाफ कार्रवाई का इरादा जाहिर किया।

नासा ने ‘पार्कर सोलर प्रोब’ मिशन लॉन्च किया

अमेरिकी स्पेस एंजेंसी नासा ने 12 अगस्त 2018 को अपना पहला सोलर मिशन ‘पार्कर सोलर प्रोब’ मिशन लॉन्च किया है। फ्लोरिडा के केप केनेवरल स्थित प्रक्षेपण स्थल से डेल्टा-4 रॉकेट इसे लेकर अंतरिक्ष रवाना किया गया। यह पहली बार होगा जब कोई स्पेसक्राफट सूर्य के इतने करीब जाएगा और उसका अध्ययन करेगा। इसके प्रक्षेपण का मुख्य मकसद कोरोना के रहस्य से पर्दा उठाना है। पार्कर सोलर मिशन में कार के आकार का एक अंतरिक्ष यान सीधे सूर्य के कोरोना के चक्कर लगाएगा। यह यान पृथ्वी की सतह से 65 लाख किमी की दूरी पर और अब तक भेजे गए अंतरिक्ष यानों के मुकाबले सूर्य से सात गुना करीब होगा।

श्रीलंका में राजनीतिक संकट

श्रीलंका में 51 दिन के राजनीतिक संकट के बाद रानिल विक्रमसिंघे को फिर से प्रधानमंत्री बनाए जाने के बाद पहली बार मंगलवार को देश की संसद की कार्यवाही होने वाली है। सिरीसेना की विवादित कार्रवाई से द्वीपीय देश में करीब दो महीने तक राजनीतिक उथल-पुथल रही। 26 अक्टूबर को राष्ट्रपति ने विक्रमसिंघे को प्रधानमंत्री पद से हटाकर पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे को उनकी जगह प्रधानमंत्री नियुक्त किया था और चुनाव होने से 20 महीना पहले संसद भंग कर दिया था।  16 दिसंबर को विक्रमसिंघे की फिर से प्रधानमंत्री के रुप में वापसी हुई।इससे पहले विक्रमसिंघे ने राजपक्षे को पीएम मानने से इनकार कर दिया था.और मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा था. राष्ट्रपति के फैसलों को अमान्य घोषित कर उनके कदमों को अवैध करार देते हुए श्रीलंका की सुप्रीम कोर्ट ने दो अलग-अलग फैसले सुनाये।। जिसके बाद सिरिसेना के पास कोई विकल्प नहीं बचा था।और उसके बाद 16 दिसंबर को एक बार फिर से 51 दिन बाद रानिल विक्रमसिंघे की देश के प्रधानमंत्री पद पर फिर से वापसी हुई। कोलंबो में राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने विक्रमसिंघे को शपथ दिलाई।। इसके साथ ही श्रीलंका में जारी सियासी ड्रामे की हैप्‍पी एंडिंग हुई। हालांकि, श्रीलंका के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच अभी भी खटास खत्म नहीं हो पाई है। हालांकि, अब जब विक्रमसिंघे ने सत्ता फिर से संभाल ली हैं तो श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने कहा कि उन्होंने सिर्फ लोकतांत्रिक समाज को ध्यान में रखते हुए उन्हें सत्ता सौंपी है। सिरीसेना और राजपक्षे दोनों एक-दूसरे के घोर प्रतिद्वंदी रह चुके हैं

साल 2018: खेल और खिलाड़ियों के यादगार लम्हें

सऊदी अरब के प्रतिष्ठित पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या

अमेरिका के प्रतिष्ठित अखबार वॉशिंगटन पोस्ट का दावा है सऊदी अरब के एक प्रतिष्ठित पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या की गई है। तुर्की में सऊदी के वाणिज्य दूतावास में जमाल खागोशी की हत्या होने की बात अखबार ने कही है। जमाल वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार थे और वह सऊदी और क्राउन प्रिंस के कटु आलोचक माने जाते थे। तुर्की मीडिया के मुताबिक इस्तांबुल स्थित रियाद के वाणिज्य दूतावास के भीतर सऊदी पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या से पहले उन्हें यातना दी गई। अखबार ने कहा कि उसने इससे संबंधित ऑडियो रिकॉर्डिंग सुनी है। येनी सफाक अखबार ने दावा किया है कि दूतावास में खाशोगी से पूछताछ के दौरान उनकी अंगुलियां काट दी गईं,उनका सिर धड़ से अलग कर शरीर के टुकड़े कर दिए गए। बाद में सउदी ने इस घटना को स्वीकार किया और दोषियों को सजा दिलाने की बात की।

जापान इंटरनेशनल व्हेलिंग कमीशन (आईडब्ल्यूसी) से हटा

जापान ने 26 दिसंबर 2018 को कहा कि वह इंटरनेशनल व्हेलिंग कमीशन (आईडब्ल्यूसी) से हट रहा है और अगले साल (वर्ष 2019) से व्हेल पकड़ने का व्यावसायिक काम फिर शुरू करेगा। इस घोषणा की संभावना पहले से ही व्यक्त की जा रही थी। जापान इस साल की शुरूआत में व्यावसायिक व्हेलिंग फिर शुरू करने की अनुमति देने के लिए आईडब्ल्यूसी को मना नहीं पाया था जिसके बाद उसने यह कदम उठाया। जापानी सरकार के एक शीर्ष प्रवक्ता ने कहा की हमने अगले साल जुलाई में व्यावसायिक व्हेलिंग फिर शुरू करने के लिए आईडब्ल्यूसी से हटने का फैसला किया है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.