फोटोग्राफी का शौक काफी लोगों को होता है। कोई स्ट्रीट फोटोग्राफी का शौक रखता है तो कोई पोट्रेट फोटोग्राफी का। किसी को नेचर फोटोग्राफी पसंद होती है तो किसी को धार्मिक जगहों पर जाकर फोटो लेना पसंद होता है। कुछ लोगों को वाइल्‍ड लाइफ फोटो ग्राफी पसंद होती है।

वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी के लिए घने जंगलों में जाना और जानवरों के बीच रहकर उनके फोटो लेना खतरनाक होता है। लेकिन देश की एक युवती ने ने इस खतरनाक काम को अपना प्रोफेशन बनाया और इस क्षेत्र में आपना नाम रोशन किया।

हाल ही में उन्होंने ‘वाइल्‍ड लाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर अवार्ड्स को जीतकर खिताब अपने नाम किया है।

%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%87%E0%A4%B2%E0%A5%8D%E0%A4%A1 %E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%87%E0%A4%AB

वह भारत की पहली ऐसी महिला हैं, जिन्हें यह अवॉर्ड दिया गया है। जिसने इस देश का सर गर्व से उपर कर दिया है आइए जानते हैं उनके बारे में

वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर ऑफ द ईयर का पुरस्कार जीतने वाली पहली भारतीय महिला ऐश्वर्या श्रीधर हैं। 23 साल की ऐश्वर्या पनवेल की रहने वाली हैं।  

दुनियाभर के 80 से अधिक देशों से 50 हजार एंट्री के बीच उनकी फोटो को अवॉर्ड दिया गया। इस पुरस्कार की घोषणा 13 अक्टूबर को लंदन में नेचर हिस्ट्री म्यूजियम में की गई थी।

इस प्रतियोगिता के लिए 100 फोटो को शॉर्टलिस्ट किया गया था। उन्होंने बिहेवियर इनवर्टेब्रेट्स कैटेगरी में यह अवॉर्ड जीता है। यह फेमस अवॉर्ड पिछले 56 साल से दिया जा रहा है। उनकी अवॉर्ड विनिंग फोटो का नाम ‘लाइट्स ऑफ पैशन’ है। इस फोटो को कैनन के प्रीमियम डीएसएलआर – ईओएस -1 डीएक्स मार्क  से क्लिक किया गया था।

121278294 773054633256520 6536044507518350564 n

ऐश्वर्या ने फोटोग्राफ के लिए, शॉट या कैनन EF16-35mm F / 2.8 L II USM लेंस के लिए 35 मिमी लेंस का उपयोग किया था। जो 24mm की फोकल लंबाई, 24 सेकेंड की शटर स्पीड और f / 2.8 अपर्चर और ISO 1000 के बराबर होनी चाहिए।

वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर होने के साथ वह पेशे से राइटर और फिल्म मेकर भी हैं। ऐश्वर्या, पिल्लई कॉलेज ऑफ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स से मास मीडिया ग्रेजुएट हैं। उन्होंने इस फोटो को पिछले साल जून में भंडारा में एक ट्रेकिंग के दौरान शूट किया गया था।

https://www.instagram.com/p/CGaErqPARRt/

ऐश्वर्या पहले भी कई फोटोग्राफी के लिए अवॉर्ड जीत चुकी हैं। उनकी डॉक्यूमेंटरी क्वीन ऑफ तारु ने न्यूयॉर्क में 9वां वन्यजीव संरक्षण फिल्म समारोह जीता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here