उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और बीजेपी के फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ एक बार फिर चर्चा का विषय बने हुए हैं। चारों तरफ योगी आदित्यनाथ की बात हो रही हैं। मुद्दा गंगा में बहती लाशें या इलहाबाद हाई कोर्ट नहीं है बल्कि योगी का जन्मदिन है। दरअसल 5 जून को योगी आदित्यनाथ का जन्मदिन था, इस मौके पर सीएम को कई नेताओं ने बधाई दी लेकिन पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने कोई बधाई ट्वीट नहीं लिखा।

जन्मदिन के बाद से ही योगी आदित्यनाथ सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं। लोग अलग अलग तरह का आकलन लगा रहे हैं। एक गुट कह रहा है कि, आने वाले विधानसभा चुनाव में योगी का पत्ता साफ हो रहा है यही कारण है कि, उन्हें पीएम और गृह मंत्री विश नहीं कर रहे हैं।

वहीं दूसरी तरफ अलग हवा चल रही है। दावा किया जा रहा है कि, कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने किसी में नेता को सोशल मीडिया पर बधाई नहीं दी है। यही कारण है कि योगी आदित्यनाथ को भी बधाई पत्र नहीं भेजा गया है। लेकिन पीएम मोदी ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को तो ट्वीट कर बधाई दी थी। अब मामला गरम हो गया है।

इस जलते मुद्दे पर विपक्ष भी हाथ सेंक रहा है, समाजवादी पार्टी के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता  आईपी सिंह ने मोदी की एक सोशल मीडिया पोस्ट को सबके सामने उजागर किया, जिसमें पीएम उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को जन्मदिन की बधाई देते दिख रहे हैं। इसी के साथ आईपी सिंह ने तंज कसते हुए कहा कि तीरथ सिंह को बधाई देने वाले मोदी ने योगी को पूछा तक नहीं।

बता दें कि, भाजपा सूत्रों का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान किसी के लिए भी बधाई जैसी कोई पोस्ट नहीं की है। इसमें पार्टी के सीनियर लीडर समेत विपक्ष के भी कई बड़े नेता शामिल हैं, जिनके लिए पीएम ने पोस्ट नहीं की। इसमें राजस्थान, गोवा, केरल और हरियाणा के मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। 

गौरतलब है कि, मोदी-शाह को छोड़ कई मंत्रियों और BJP नेताओं ने सोशल मीडिया पर योगी को जन्मदिन की बधाई दी है। इनमें देवेंद्र फडणवीस, डॉ. रमन सिंह, नरेंद्र सिंह तोमर, स्मृति ईरानी, किरण रिजेजू और प्रकाश जावडेकर जैसे कई नाम शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here