होम देश बाल विवाह को बढ़ावा देता है Rajasthan में पारित नया विधेयक :...

बाल विवाह को बढ़ावा देता है Rajasthan में पारित नया विधेयक : BJP

भाजपा के विरोध के बीच Rajasthan विधानसभा ने शुक्रवार को बाल विवाह पर 2009 के अधिनियम में संशोधन के लिए एक विधेयक पारित कर दिया है। राजस्थान विवाह का अनिवार्य पंजीकरण (संशोधन) विधेयक, 2021 (The Rajasthan Compulsory Registration of Marriages (Amendment) Bill, 2021) राजस्थान अनिवार्य विवाह पंजीकरण अधिनियम, 2009 (Rajasthan Compulsory Registration of Marriages Act, 2009) में संशोधन करता है।

अभी तक राजस्थान में केवल जिला विवाह पंजीकरण अधिकारी (DMRO) ही विवाहों को पंजीकृत करता था। लेकिन शुक्रवार को पारित विधेयक से अब सरकार को विवाह रजिस्टर करने के लिए अतिरिक्त DMRO और ब्लॉक MRO को नियुक्त करने की शक्ति मिली है।

अधिनियम की धारा 8 को लेकर विरोध

इस संशोधन में सबसे ज्‍यादा राज्‍य सरकार का विरोध अधिनियम की धारा 8 के संशोधन को लेकर है। 2021 के संशोधन में कहा गया है कि 21 साल से कम उम्र के दूल्हे और 18 साल से कम उम्र के दुल्‍हन के माता-पिता या अभिभावक को शादी के 30 दिन पहले सूचना देनी होगी।

भाजपा ने दावा किया है कि नया कानून बाल विवाह को वैध करेगा

राजस्‍थान में विपक्ष की भूमिका निभा रही भाजपा ने राज्‍य सरकार को घेरा है। बहस के दौरान भाजपा नेता और विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया (Gulab Chand Kataria) ने कहा, “मुझे लगता है कि यह कानून पूरी तरह से गलत है। जिन विधायकों ने इसे पारित किया है, उन्होंने इसे नहीं देखा है। विधेयक की धारा 8 बाल विवाह के खिलाफ लागू मौजूदा कानून का उल्लंघन करती है।”

राजस्थान में विपक्ष के उप नेता राजेंद्र राठौड़ (Rajendra Rathod) ने कहा कि मुझे आश्चर्य है कि ऐसा राजस्थान में हुआ, जहाँ बाल विवाह को एक प्रतिगामी प्रथा माना जाता है, और जहाँ 1927 में शारदा अधिनियम (बाल विवाह निरोधक अधिनियम) अस्तित्व में आया। इसे हरविलास शारदा द्वारा पारित किया गया था और इसी से बाल विवाह निषेध अधिनियम, 2006 में बनाया गया था, लेकिन आज इस विधेयक का पास होना यह साबित करता है कि राजस्थान अभी भी इस प्रतिगामी रिवाज की पकड़ में है।

सरकार का पक्ष

विधानसभा में भाजपा नेताओं द्वारा बिल का कड़ा विरोध करने और बिल के तहत बाल विवाह के पंजीकरण के प्रावधान पर सवाल उठाने के बाद, संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने कहा, “बिल यह नहीं कहता है कि बााल विवाह मान्य है। बिल कहता है कि विवाह के बाद केवल पंजीकरण आवश्यक है। इसका मतलब यह नहीं है कि बाल विवाह वैध है। यदि जिला कलेक्टर चाहे तो वह बाल विवाह के खिलाफ कार्रवाई कर सकता है। यह संशोधन केंद्रीय कानून के विपरीत नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने भी फैसला सुनाया है कि शादियों का अनिवार्य पंजीकरण होना चाहिए। इसलिए विधेयक में बाल विवाह शामिल है।”

यह भी पढ़ें:

Rajasthan Police SI एडमिट कार्ड यहां से करें डाउनलोड, 13 September से होगा Exam

Rajasthan: Nagaur हादसे में पीड़ित परिवारों को पीएम देंगे 2 लाख का मुआवजा, शिवराज ने भी किया ऐलान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

T20 World Cup : Scotland ने Oman को हराकर सुपर 12 में जगह बनाई, सुपर 12 में भारत के ग्रुप में पहुंची स्कॉटलैंड

T20 World Cup के क्वालिफाइंग मुकाबले में Scotland ने Oman को 8 विकेट से हराकर सुपर 12 में प्रवेश किया। ओमान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 122 रन बनाए। जवाब में स्कॉटलैंड ने 2 विकेट खोकर लक्ष्य की प्राप्ति कर ली।

Ananya Panday से आज 2 घंटे तक हुई पूछताछ, NCB ने कल फिर 11 बजे बुलाया

मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने आज बॉलीवुड अभिनेता चंकी पांडे (Chunky Pandey) की बेटी और अभिनेत्री Ananya Panday से 2 घंटे तक पूछताछ करने के बाद कल भी बुलाया है। वो कल सुबह 11 बजे अपना बयान दर्ज कराने के लिए फिर NCB के ऑफिस जाएंगी।

ड्रग्स को खत्म करने के लिए मुझे जेल भी जाना पड़े तो जाऊंगा: NCB अधिकारी समीर वानखेड़े, पढ़ें दिनभर की सभी बड़ी खबरें…

APN Live Updates: एनसीबी के समीर वानखेड़े ने कहा कि ये मुंबई की तस्वीरें हैं। मैं मुंबई में था। सच को किसी...

इस शख्‍स ने संस्‍कृत में गाई ”कोई दीवाना कहता है”, खुद Kumar Vishwas ने शेयर किया वीडियो

Kumar Vishwas आज हिंदी के जाने-माने कवि हैं और उनके लाखों प्रशंसक हैं। कुमार विश्वास को जिस कविता ने शोहरत और प्रसिद्धि दिलाई थी वो है कोई दीवाना कहता है। कोई दीवाना कहता है को हिंदी में आपने बहुत बार सुना होगी लेकिन अब कुमार विश्वास की इस कविता का संस्कृत संस्करण भी सामने आया है। कुमार विश्वास ने खुद सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म पर एक वीडियो शेयर किया जिसमें एक व्यक्ति उनकी कविता को संस्कृत में गाते दिख रहा है।