Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भंसाली की पद्मावती आजकल विवादों में चल रही है। कोर्ट में पद्मावती के खिलाफ दाखिल याचिका को कोर्ट ने खारिज कर दिया है। कोर्ट का कहना है कि जब तक सेंसर बोर्ड इस फिल्म को सर्टिफिकेट नहीं दे देता तब तक कोर्ट इस केस को नहीं देख सकता। इतना ही नहीं अब इस विवाद में  बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यन स्वामी भी कूद पड़े हैं। उन्होंने इस मामले में अंतरराष्ट्रीय साजिश होने का अंदेशा जताया है। उन्होंने कहा कि निर्देशक संजय लीला भंसाली के फाइनेंसर से एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) को पूछताछ करनी चाहिए।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इस फिल्‍म की रिलीज पर रोक लगाने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया है। याचिका दायर करने वाले सिद्धराज सिंह चूडास्मा को फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी और पद्मावती के सीन से दिक्कत थी। उनका कहना है कि फिल्म के तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गई है। इससे राजपूत समाज आहत हो सकता है। ऐसे में समाज के लोगों को फिल्म को रिलीज होने से पहले देखने का मौका मिलना चाहिए या फिर सुप्रीम कोर्ट पहले एक स्क्रीनिंग कमेटी बनाए जो फिल्म देखे और तय करे। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिल्म को रिलीज करने या ना करने के लिए सेंसर बोर्ड के पास पर्याप्त दिशा-निर्देश हैं।

बीजेपी नेता और भारतीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के सदस्य अर्जुन गुप्ता ने कहा है कि उन्होंने गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर संजय लीला भंसाली पर राजद्रोह का मुकदमा चलाने की अपील की है। अर्जुन गुप्ता ने आरोप लगाया है कि भंसाली ने इतिहास को तोड़ मरोड़ को पेश किया है जिससे राष्ट्रीय भावनाएं आहत हुई हैं। वहीं संजय लीला भंसाली ने एक बयान जारी करके कहा है कि फिल्म में “राजपूतों की मान-मर्यादा” का ख्याल रखा गया है।

वहीं फिल्म पर आपत्ति जताने वालों में बीजेपी विधायक और जयपुर राजघराने से ताल्लुक रखने वाली दिया कुमारी भी हैं। दिया कुमारी ने मांग की है कि फिल्म को रिलीज करने से पहले उस पर आपत्ति करने वाले समहूों को दिखायी जानी चाहिए।

हालांकि स्वामी की माने तो आजकल कई फिल्में आ रही हैं और इनमें काफी पैसा खर्च होता है। स्वामी का कहना है कि इन फिल्मों को बनाने के लिए इन लोगों के पास इतने पैसे कहां से आते हैं। स्वामी ने कहा, “दुबई के लोग चाहते हैं कि सिनेमा में मुसलमान राजाओं को हीरो की तरह पेश किया जाए और हिंदू महिलाओं को एेसा दिखाया जाए कि वह उनसे रिश्ता बनाने के लिए तैयार थीं।

उन्होंने पद्मावती के निर्माताओं पर सवाल दागते हुए कहा कि हिंदू महिलाओं को बदनाम करने के लिए दुबई से पैसा आ रहा है। स्वामी ने कहा कि पहले फिल्म जोधा-अकबर बनी, उसमें भी एेसा ही दिखाया गया था। कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यन स्वामी ने कहा कि यूपीए सरकार के दौरान इन लोगों को बढ़ावा मिला है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.