होम देश Corona से मौत होने का मिलेगा Certificate, केंद्र सरकार ने दाखिल किया...

Corona से मौत होने का मिलेगा Certificate, केंद्र सरकार ने दाखिल किया हलफनामा

देश में कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से होने वाली मौत को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था। इस पर अब विराम लगने वाला है। सर्वोंच्च न्‍यायालय (Supreme Court) ने केंद्र सरकार को कोरोना संक्रमण से होने वाली मौत के मामले में मृत्‍यु प्रमाण पत्र (Death Certificate) जारी करने और दिशानिर्देशों को सरल बनाने के लिए जो आदेश जारी किए थे, उसका पालन करते हुए अब केंद्र सरकार ने नई गाइडलाइन जारी कर दी है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research, ICMR) ने सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार कोरोना से होने वाली मौत के मामलों में आधिकारिक दस्तावेज जारी करने के लिए अपने दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। केंद्र सरकार ने कोर्ट के आदेश को ध्यान में रखते हुए हलफनामा दायर कर जानकारी दी है।

Positive Report आने के 25 दिनों के भीतर ही 95% मौतें हो जाती हैं

केंद्र सरकार द्वारा दी हुई जानकारी के अनुसार, अगर कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के 30 दिन के भीतर मौत हो जाती है तो उसे कोरोना से हुई मौत माना जाएगा। हालांकि अगर किसी कोरोना संक्रमित मरीज की मौत 30 दिनों के बाद भी होती है तो उसे कोरोना से हुई मौत माना जाएगा। साथ ही यह भी कहा गया है कि कोरोना से संक्रमित मरीज की मौत अस्पताल या घर पर हुई हो दोनों ही स्थितियों में मान्य होगी।

केंद्र का कहना है कि ICMR की स्टडी में सामने आया है कि 95% मौतें पॉजिटिव रिपोर्ट आने के 25 दिन के भीतर हो जाती हैं। इसलिए 30 दिनों की अवधि निर्धारित की गई है।

साथ ही यह भी कहा गया है कि जहर, आत्महत्या, हत्या और दुर्घटना के कारण होने वाली मौतों को कोरोना से होने वाली मौत नहीं माना जाएगा भले ही उनको बाद में कोरोना संक्रमण हो गया हो।

मृतक के परिजनों को केंद्र ने क्या कहा ?

केंद्र के दिशानिर्देशों के मुताबिक जिनका RT-PCR परीक्षण, मॉलिक्यूलर परीक्षण, रैपिड-एंटीजन परीक्षण के माध्यम से किया गया है या किसी अस्पताल या इन-पेशेंट सुविधा में जांच के माध्यम से डॉक्टर द्वारा मेडिकल रूप से निर्धारित किया गया है।

केंद्र ने कोरोना से हुई मौत के उन मामलो के लिए भी दिशानिर्देश दिए है जो मामले हल नहीं हुए है। जिन मामलों में मौत के बाद फॉर्म 4 और 4 ए में मेडिकल सर्टिफिकेट ऑफ कॉज ऑफ डेथ (MCCD) पंजीकरण प्राधिकारी को जारी किया गया है। जन्म और मृत्यु पंजीकरण (RBD) अधिनियम, 1969 की धारा 10 के तहत आवश्यक दिशानिर्देशों के अनुसार कोरोना से हुई मृत्यु के रूप में ही माना जाएगा।

हलफनामे के जरिए कोर्ट को यह भी बताया गया कि अगर मृतक के परिजन मृत्यु प्रमाण पत्र पर लिखे मौत के कारण से संतुष्ट नहीं होते हैं तो इस समस्या से निवारण करने के लिए जिला स्तर पर एक कमेटी भी बनाई जाएगी।

केंद्र का यह हलफनामा Supreme Court  के जून में दिए गए फैसले पर दिया गया है

जिला स्तर की इस कमेटी में एडिशनल डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर, CMO, मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल या मेडिसिनल विभाग के हेड और मामलों के जानकार शामिल किए जाएंगे। जो कोरोना से हुई मौत के लिए दस्तावेज जारी करेंगे।

केंद्र ने बताया कि इनके लिए रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य रजिस्ट्रारों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करेंगे।

दरअसल केंद्र का यह हलफनामा सुप्रीम कोर्ट के जून में दिए गए फैसले पर दिया गया है। जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह कोविड से जुड़े डेथ सर्टिफिकेट को जारी करे। कोरोना से हुई मौत पर जो सर्टिफिकेट पहले ही जारी किए जा चुके है उनमें सुधार किया जाए।

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए NDMA के अधिकारियों को फटकार भी लगाई थी। जिसके बाद केंद्र ने हलफनामा दाखिल किया है।

यह भी पढ़ें:

India Covid-19 Update : देश भर में Corona के मामले हुए कम, इन शहरों में राहत और इन शहरों में है ज्यादा खतरा

India Covid-19 Update : देश में Corona Cases बढ़े, Mumbai में तीसरी लहर की चेतावनी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Raghav Chadha ने Navjot Singh Sidhu को पंजाब की राजनीति की राखी सावंत कहा, हुए Troll

अगले साल 5 राज्‍यों में विधानसभा के चुनाव होने वाले है। 5 राज्‍यों में एक प्रमुख राज्‍य पंजाब भी है। इसलिए यहा पर भी राजनीतिक सरगर्मी तेज है। सभी पार्टियां किसानों के मुद्दे पर एक दूसरे पर हमलावर है। आज आम आदमी पार्टी (AAP) के पंजाब सह प्रभारी और दिल्ली के विधायक Raghav Chadha ने नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को पंजाब की राजनीति की राखी सावंत (Rakhi Sawant) कह दिया है।

Allahabad High Court बार एसोसिएशन से आयकर वसूली मामले में आयकर विभाग को पुन: विचार करने का दिया आदेश

Allahabad High Court ने 40 लाख रुपये के आयकर वसूली मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन से दायर याचिकाओं को आयकर...

Padmanabhaswamy temple के खातों के ऑडिट मामले में Supreme Court ने फैसला रखा सुरक्षित

श्री पद्मनाभ स्वामी नारायण मंदिर के खातों के ऑडिट मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। आज वरिष्ठ वकील अरविंद दातार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश ट्रस्ट के लिए नही बल्कि केवल मंदिर के ऑडिट के लिए पारित किया गया था।

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री Anil Deshmukh के ठिकानों पर Income Tax Department का छापा

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (Nationalist Congress Party) के नेता और महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री Anil Deshmukh की मुसीबतें और बढ़ती जा रही है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) के बाद अब आयकर विभाग (Income Tax Department) ने शुक्रवार को उनसे जुड़ी परिसरों की तलाशी ली।