होम अपना प्रदेश Chhattisgarh : कवर्धा मुद्दे को लेकर राजनीति तेज, BJP ने भेजा प्रतिनिधिमंडल

Chhattisgarh : कवर्धा मुद्दे को लेकर राजनीति तेज, BJP ने भेजा प्रतिनिधिमंडल

छत्तीसगढ़ के कवर्धा (Chhattisgarh, Kawardha) में झंडा लगाने को लेकर उपजे विवाद पर अब राजनीतिक रंग ले चुका है। भारतीय जनता पार्टी ने इस मामले को लेकर एक प्रतिनिधिमंडल कवर्धा भेजा है।यह मामला इतना तुल पकड़ा कि पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े थे और धारा 144 लागू करना पड़ा था, इसके बावजूद उपद्रवियों ने शहर में जगह जगह तोड़फोड़ और आगजनी की थी। हालात को नियंत्रण में लेने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े।

मंगलवार को हुए इस उपद्रव के बाद शाम को पुलिस ने फ्लैग मार्च किया, फिर भी स्थिति तनावपूर्ण है। इस पूरे घटना में जिस युवक की पिटाई हुई थी, उसके आरोपियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर राजनांदगांव के बीजेपी सांसद अभिषेक सिंह और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने रैली निकाली और पुलिस पर सवाल खड़े किए। हालांकि इस पूरे मामलें में बेकाबू भीड़ को काबू करना पुलिस के लिए काफी मुश्किल साबित हुई और उपद्रवियों मे आगजनी और तोड़फोड़ करना शुरू कर दिया।

कवर्धा में कर्फ्यू

रविवार दोपहर कुछ युवकों ने लोहारा नाका चौक इलाके में झंडा लगा दिया, इसे लेकर दो गुटों में लाठियों चलीं और मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस को बुलाया गया, लेकिन तभी दूसरे गुट ने झंडा लगाने वाले गुट के एक युवक दुर्गेश को पीट पीटकर घायल कर दिया। मारपीट में 8 अन्य लोग घायल हुए और उनका इलाज कवर्धा के अस्पताल में चल रहा है, वहीं सोमवार को शांति समिति की बैठक बुलाई गई।

पुलिस ने इस पूरे मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार कर FIR दर्ज की है। इस पूरे मामले का राजनीतिक पार्टियां अपने अपने फायदे के लिए इस्‍तेमाल करना चाहती हैं और इसे राजनीतिक रंग दे रही हैं।

इससे पहले क्षेत्र में फैले तनाव के कारण जिला अधिकारी रमेश कुमार शर्मा ने कर्फ्यू लगा दिया गया था। लेकिन साथ ही अतिआवश्यक सेवाओं को छूट भी प्रदान की है। जिलाधिकारी ने लोगों से अपील की है कि कोई भी नागरिक अपने घर से बाहर नहीं निकलें। कवर्धा शहरी क्षेत्र में पहले से ही धारा-144 लागू है। इस मामले में कलेक्टर ने कहा कि कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों पर नियमानुसार कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

धार्मिक झंडा फहराये जाने को लेकर हुआ विवाद

रविवार को धार्मिक झंडा लगाने से शुरू हुए बवाल के बाद आज बड़ी संख्या में दो समुदाय के लोग सड़क पर लाठियां, रॉड और डंडे लेकर निकल आए और घरों के बाहर खड़ी गाड़ियों में तोड़फोड़ करने लगे। कई बस्तियों में बढ़ते हंगामे को देखकर पुलिस को लाठी चार्ज तक करना पड़ा। आज हिंदू संगठनों ने कवर्धा-जबलपुर नेशनल हाईवे पर चक्काजाम भी किया।

उपद्रव के बाद प्रशासन ने 24 घंटे का कर्फ्यू लगा दिया है। विश्व हिंदू परिषद के बुलाए गए बंद को देखते हुए नगर के सभी बाजार और दुकानें पहले से बंद थी। इसी दौरान दोपहर में बड़ी संख्या में लोग हाथों में रॉड, डंडा लेकर रैली की शक्ल में शहर में निकल आए और सड़कों पर खड़ी बाइक, कार और अन्य वाहनों को निशाना बनाने लगे। उपद्रवियों ने कई गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए और वाहनों को पलट दिया। शहर के कई इलाकों में हालात अभी भी तनावपूर्ण बने हुए हैं।

विश्व हिंदू परिषद ने दो पक्षों में हुए विवाद के बाद पुलिस कार्रवाई पर नाराजगी जताई है। इसे लेकर कवर्धा बंद का आह्वान किया गया है। उनका आरोप है कि हत्या के इरादे से झंडा फहराने को लेकर हमला किया गया था। विश्व हिंदू परिषद का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में पीड़ित पक्ष को ही पीटा और उसके इलाज में देरी की। साथ ही दुर्गेश देवांगन की पिटाई मामले में मजिस्ट्रियल जांच की मांग की है। तनाव को देखते हुए इलाके में भारी पुलिस फोर्स तैनात है।

सांसद का आरोप पुलिस कर रही है एकतरफा कार्रवाई

राजनांदगांव लोकसभा क्षेत्र के सांसद संतोष पांडेय कवर्धा में आयोजित धरना प्रदर्शन, रैली व चक्काजाम में हुए शामिल हुए। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार आने के बाद से धर्मान्तरण बढ़ रहे हैं और हमारी आस्था का लगातार अपमान हो रहा है। जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस गंभीर मामले में संलिप्त असामाजिक तत्वों पर कड़ी कार्रवाई की जाए।

धारा 144 का पालन नहीं होने पर लगा कर्फ्यू

कवर्धा शहर में हिंदू संगठन विश्व हिंदू परिषद ने विगत दिनों दो गुटों के विवाद के चलते आज 5 अक्टूबर को बंद का ऐलान किया था। जिसमें जिले के गांव-गांव व शहर-शहर से भारी संख्या में हिंदू समर्थक हिंदू संगठन के लोग झंडा-डंडा लेकर कवर्धा शहर पहुंच गए और भारी संख्या में लोगों ने शहर का इस कोने से उस कोने तक भ्रमण किया, जिसे देखते हुए प्रशासन चौकन्ना हो गई और शहर में कर्फ्यू लगा दिया है।

इसी दौरान राजनांदगांव कवर्धा के सांसद संतोष पांडेय, पूर्व सांसद अभिषेक सिंह और भाजपा जिला अध्यक्ष अनिल ठाकुर, पूर्व विधायक अशोक साहू, प्रदेश भाजपा मंत्री विजय शर्मा एवं समस्त भाजपा के पदाधिकारियों और विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारियों के साथ-साथ बजरंग दल जैसे तमाम संगठनों के लोग भारी संख्या में इकट्ठा होकर जोरदार विरोध प्रदर्शन करने लगे।

इस वजह से शहर का हालात तनावपूर्ण हो गये। जिसे देखते हुए पुलिस प्रशासन की संख्या बढ़ा दी गई है। पुलिस का फ्लैग मार्च जारी है। जिला प्रशासन ने चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात कर दिया है किंतु हिंदुओं में भारी रोष देखा जा रहा है और हिंदू संगठन मांग कर रहे हैं कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये। साथ ही पुलिस लाठी चार्ज की न्यायिक जांच हो और आरोपी पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई हों। इस मांग को लेकर आज पुरा जिला बंद कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें

Chhattisgarh: कवर्धा में दो समुदायों के बीच तनाव, लगा कर्फ्यू

पुलिस ने रोका तो जमीन पर बैठे Chhattisgarh के मुख्यमंत्री Bhupesh Baghel, कहा- बिना किसी आदेश के रोका जा रहा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

APN News Live Updates: Philippines भारत से खरीदेगा BrahMos Cruise Missile, पढ़ें 28 जनवरी की सभी बड़ी खबरें…

APN News Live Updates: Achievement of India: भारत के लिए शुक्रवार का दिन बेहद खास रहा मेक इन इंडिया प्रोजेक्‍ट Make In India Project को...

Bollywood News Updates: स्मृति ईरानी ने मौनी रॉय को दी शादी की बधाई, पढ़ें Entertainment से जुड़ी सभी खबरें

Bollywood News Updates: टीवी का फेमस एक्ट्रेस मौनी रॉय (Mouni Roy)और सूरज नाम्बियार (Suraj Nambiar) शादी के बंधन में बंध गए है।

Akhilesh Yadav ने Jayant Chaudhary के साथ दिखाई ताकत, CM Yogi ने सपा अध्यक्ष को बताया ‘जिन्ना उपासक’, जानें यूपी चुनाव में कैसा रहा...

Akhilesh Yadav: उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी से चुनावों की शुरुआत हो रही है। इससे पहले तरह तरह के चुनावी वादे, आरोप-प्रत्यारोप औऱ सियासी ड्रामा देखने को मिल रहा है।

Cricket News Updates: जिम्बाब्वे के क्रिकेटर Brendon Taylor को ICC ने किया बैन, पढ़ें दिनभर की सभी बड़ी खबरें

Cricket News Updates: जिम्बाब्वे की टीम के पूर्व कप्तान ब्रेंडन टेलर पर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आईसीसी ने बैन लगाया है। Brendon Taylor को हर प्रकार की क्रिकेट से साढ़े तीन साल के लिए बैन किया गया है। ब्रेंडन टेलर ने खुद पर लगे चार आरोपों को स्वीकार किया है, जिसमें तीन आईसीसी एंटी करप्शन कोड से संबंधित आरोप थे, जबकि एक आरोप आईसीसी एंटी डोपिंग कोड से संबंधित था। इसी वजह से ब्रेंडन टेलर को साढ़े तीन साल के लिए क्रिकेट की हर विधा से दूर रहना होगा।